समुन्दर बनेगा नया रणक्षेत्र, अमेरिकी चेतावनी के बावजूद चीन ने भेजे युद्धक जहाज

author image
Updated on 6 Sep, 2016 at 12:31 pm

Advertisement

क्या आने वाले दिनों में दक्षिण चीन सागर एक नया रणक्षेत्र बनने जा रहा है? विश्व राजनीति पर नजर रखने वाले लोगों को यह सवाल परेशान किए हुए है। यह लाजिमी भी है।

अमेरिकी चेतावनी को नजरअंदाज करते हुए चीन ने युद्धक जहाजों के बेड़े को विवादित समुद्र क्षेत्र में तैनात कर दिया है।

जी-20 सम्मेलन के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चीन को साफ शब्दों में चेतावनी जारी करते हुए इस विवादित क्षेत्र से हटने के लिए कहा था। अमेरिका ने कहा था कि अगर चीन ने इस क्षेत्र में आक्रामकता दिखाई तो इसके गंभीर नतीजे होंगे।

इससे पहले इसी साल मार्च महीने में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को वाशिंगटन में एक बैठक के दौरान चेताते हुए कहा था कि वह स्कारबोरा शोल पर एक कृत्रिम द्वीप का निर्माण न करें।

चीन को मिल रही लगातार चेतावनियों के बावजूद दक्षिण चीन सागर के विवादित जलक्षेत्र में चीनी युद्धक जहाजों की मौजूदगी चिन्ता का सबब बन सकती है।

यहां चीनी जहाजों की तैनाती फिलीपींस के रक्षा मंत्री डेलफिन लोरेनजाना ने दी है। उन्होंने कहा कि फिलीपींस रक्षा मंत्रालय ने चार चीनी तटरक्षक जहाजों और छह अन्य जहाजों की तस्वीरें जारी किए हैं, जो दक्षिण चीन सागर के विवादित जलक्षेत्र स्कारबोरो शोल के एक मील से भी कम की दूरी पर तैनात हैं।

फिलहाल चीन का यह कदम भड़काउ माना जा रहा है।

गौरतलब है कि इस विवादित इलाके पर फिलीपींस और चीन दोनों अपना दावा करते हैं। पिछले कुछ सालों में चीन ने दक्षिण चीन सागर के इस विवादित इलाके में कई कृत्रिम द्वीप बना लिए हैं, जिन पर सेना की तैनाती की गई है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement