भारत को असहिष्णु देश कहने वाले लोग चीन की इस हरकत पर चुप क्यों हैं?

author image
Updated on 10 Jul, 2017 at 8:52 pm

Advertisement

पिछले तीन महीनों में, चीनी सरकार ने बीजिंग के झिंजियांग क्षेत्र में सैकड़ों मस्जिदों को तोड़ गिराया है।

चीनी सरकार की केंद्रीय जातीय-धार्मिक मामलों के विभाग की ‘मॉस्क रेक्टिफिकेशन पॉलिसी’ के तहत बड़े पैमाने पर मस्जिदों को ध्वस्त किया गया।

चीनी पुलिस अधिकारी ने बताया कि उइगर स्वायत्त क्षेत्र में लोगों को नियंत्रित करने के लिए, एक सुरक्षा उपाय के रूप में मस्जिदों को नष्ट करने का फैसला लिया गया ।

mosque

पुलिस आधिकारी ने आगे बताया कि उनकी टीम ने तीन महीने में सफलतापूर्वक कई मस्जिदों को ध्वस्त किया है और यह निर्णय इस क्षेत्र में लोगों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए लिया गया है। चीनी सरकार का मानना है कि ‘उइगर आतंकवादी’ समाज के लिए खतरा हैं और पुलिस के साथ हिंसक संघर्ष के मुख्य कारणों में से एक है।

चीन में 5 करोड़ के करीब मुस्लिम आबादी है, जिनमें से अधिकांश लोग झिंजियांग में रहते हैं। अधिकारियों ने उइगर आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए इस तरह का निर्णय लिया है। माना जाता है कि पुलिस ने नियमित रूप से उइगर आतंकियों के ठिकानों पर छापे मारे हैं और और इस्लामी प्रथाओं पर प्रतिबंध लगाया है।

china


Advertisement

चीनी अधिकारियों का आरोप है कि यहां कट्टरपंथी और आतंकवादी बनाने की ट्रेनिंग दी जाती है। मस्जिदों के अंदर आतंकवादी तैयार किए जाते हैं, इसलिए इन ढांचों के बने रहने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

आपको बता दें कि चीन में मुस्लिम नागरिकों को रमजान के दौरान रोजा रखने और सार्वजनिक जगहों पर इस्लामिक पोशाक जैसे कि बुर्का पहनने की अनुमति नहीं है।

कुछ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन में पिछले तीन महीने के अंदर पांच हजार से ज्यादा मस्जिदों को बुलडोजर से ढहाया जा चुका है। सरकार ने मस्जिद में लाउडस्पीकरों के उपयोग और इस्लामिक शिक्षा पर प्रतिबंध लगाया है।

burqa

हालांकि, चीन के इस रवैये पर खुद को धर्मनिरपेक्ष बताने वाले लोगों की चुप्पी दिलचस्प है। इस मामले पर पाकिस्तान, इस्लामी राष्ट्रों और यहां तक कि भारत के उदारवादी (लिबरल) समुदाय ने चुप्पी साध रखी है। जब इजरायल ने फिलीस्तीनियों पर हमला किया, तब भारत की सेक्युलर ब्रिगेड ने भारत सरकार से इजरायल सरकार के खिलाफ रिजॉल्यूशन पारित करने के लिए कहा था।

हमारा पडोसी, पाकिस्तान, जो भारत में मुसलमानों की स्थिति के बारे में झूठी अफवाह फैलाता है और कश्मीर में भारतीय सेना द्वारा मार गिराए गए बुरहान वानी की मौत को मुद्दा बना देता है, वह पड़ोसी मुल्क इस मामले में भीगी बिल्ली बना हुआ है। उसने इस मुद्दे पर बिलकुल मौन कायम कर रखा है।

ऐसे में एक तरफ तो सेक्युलर ब्रिगेड भारत को एक असहिष्णु देश बतलाता है, जबकि चीन को इतनी मस्जिदों को ध्वस्त करने के बावजूद भी कोई कुछ नहीं कहता।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement