अब पाकिस्तान में चीन बना रहा है अपनी कॉलोनी, वहां रहेंगे सिर्फ चीनी नागरिक

10:40 am 22 Aug, 2018

Advertisement

लंबे समय से पाकिस्तान चीन के साथ मिलकर आर्थिक गलियारे के जरिए भारत को घेरने का प्रयास कर रहा है, लेकिन अब ऐसा लगता है कि पाकिस्तान का ये दांव उस पर ही भारी पड़ने लगा है। जिस आर्थिक और भौगोलिक मार्ग को पाकिस्तान ने अपने लिए चुना था उसे अब चीन द्वारा ही तय किए जा रहा है। वित्तीय विकास की उम्मीद में पाकिस्तान ने अपनी सरजमीं चीन के हाथों में सौंप दी है, जिसका इस्तेमाल अब चीन अपने फायदे के लिए कर रहा है।

 

 

दरअसल, पाकिस्तान-चीन इकोनॉमिक कॉरिडोर के तहत चीन अपने पांच लाख नागरिकों के लिए पाकिस्तान के ग्वादर में 15 करोड़ डॉलर की लागत से एक शहर बसा रहा है। इस रेजिडेंशियल इलाके में सिर्फ चीन के नागरिक ही रहेंगे। मतलब साफ है कि चीन पाकिस्तान के इस इलाके को कॉलोनी यानी उपनिवेश के तौर पर इस्तेमाल करेगा।

चीनी सरकार के मुताबिक इस कॉलोनी में रहने वाले चीनी नागरिक पाकिस्तानी बंदरगाह ग्वादर पर बनने वाले फाइनेंशियल डिस्ट्रिक्ट में काम करेंगे।

 


Advertisement

 

बताया जा रहा है कि 150 मिलियन डॉलर की लागत से बनने वाला ये शहर वर्ष 2022 तक तैयार हो जाएगा। जानकारों का मानना है कि अगर चीन की यह महत्वाकांक्षी परियोजना  सफल होती है, तो दक्षिण एशिया के साथ-साथ वर्ल्ड ट्रेड में भी उसकी दखलअंदाजी बढ़ जाएगी।

पाकिस्तान के ग्वादर को कार्गो शिप की आवाजाही के लिए तैयार किया जा रहा है। बता दें कि अफ्रीका और मध्य एशिया में भी चीन ने प्रॉजेक्ट्स पर काम कर रहे अपने नागरिकों के लिए कई ऐसे उपनगर बनाए हुए हैं।

 

 

इस वक्त पाकिस्तान आर्थिक संकट से बुरी तरह जूझ रहा है, जिसकी वजह से वो लगातार चीन के कर्च तले दबता जा रहा है। ऐसे में चीन आर्थिक गलियारे के नाम पर अपनी महत्वाकांक्षी परियोजना को पूरा करने का कोई मौका नहीं छोड़ना चाहेगा।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement