चीन के आसमान पर अब उसका अपना चांद होगा

Updated on 23 Oct, 2018 at 5:45 pm

Advertisement

सस्ते सामान बनाकर भारतीय बाज़ार पर कब्ज़ा जमाने वाला चीन अब अंतरिक्ष में भी कब्ज़ा जमाने की कोशिश में है। चीन अब चांद बनाने जा रहा है, ये कोई मज़ाक नहीं, बल्कि सच्चाई है। आसमान में अब तक तो एक ही असली चांद है, लेकिन चीन अब नकली चांद बनाने की तैयारी में है।

चीन के वैज्ञानिक 2020 तक आर्टिफिशियल मून यानी कृत्रिम चांद लॉन्च करने की तैयारी में है। ये नकली चांद चीन के शहरों की सड़कों को रौशन करेगा। ये चांद स्ट्रीटलैंप के जैसे काम करेगा। ये चांद सिचुआन प्रांत के चेंगडू में जमीन से 80 किमी की ऊंचाई लगाया जाएगा। ऊंचाई कम होने से ये आर्टिफिशियल चांद असली चांद से 8 गुना ज़्यादा चमकीला दिखेगा।

 

 


Advertisement

पहला आर्टिफिशियल चांद सिचुआन में जिचांग सैटेलाइट सेंटर से लॉन्च होगा। अगर पहला टेस्ट सफ़ल होता है तो 2022 में तीन और ऐसे ही प्रोजेक्ट पर काम किया जाएगा। सूर्य के प्रकाश को प्रतिबिंबित करके यह सैटेलाइट शहरी क्षेत्रों में स्ट्रीट लाइट की जगह काम करेगी। वैसे चीन ऐसा करने वाला कोई पहला देश नहीं है। इससे पहले 1990 के दशक में रूसी वैज्ञानिकों ने जन्न्या या बैनर नामक एक प्रयोगात्मक परियोजना में अंतरिक्ष से प्रकाश को प्रतिबिंबित करने के लिए विशाल कांच का उपयोग किया था, लेकिन वो प्रोजेक्ट फेल हो गया था।

 

 

अगर चीन का नकली चांद बनाने वाला ये प्रोजेक्ट सफ़ल हो गया तो वाकई ये विज्ञान की बहुत बड़ी उपलब्धि होगी और ज़ाहिर है इससे बिजली की भी बचत होगी, क्योंकि तब चीन को स्ट्रीट लाइट की जरूरत ही नहीं पड़ेगी सड़को को रौशन करने के लिए।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement