Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

पिछले 44 सालों से यह डॉक्टर कर रहा है दो रुपए में मरीजों का इलाज

Updated on 10 September, 2018 at 7:14 pm By

आज के दौर में इलाज कराने से लेकर दवाइयों का खर्च महंगा हो गया है। जहां सस्ती सुचारू स्वास्थ्य सेवा मिलना दूर का सपना है, वहीं एक डॉक्टर ऐसा भी है जो महज दो रुपए में लोगों का इलाज कर रहा है।


Advertisement

यहां हम बात कर रहे हैं चेन्नई के रहने वाले 67 वर्ष के डॉक्टर थीरुवेंगडम वीराराघवन की, जो पिछले 44 सालों से मरीजों का केवल 2 रुपए लेकर ही इलाज कर रहे हैं। उनकी यह नि:स्वार्थ सेवा 1973 से जारी है।

वीराराघवन ने गरीब और समाज के वंचित वर्ग के लोगों के लिए सस्ती सुलभ चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने हेतु अपना समस्त जीवन समर्पित कर दिया है।

वह सुबह 8 बजे से मरीजों को देखना शुरू कर देते हैं और रात 10 बजे तक मरीजों को देखते हैं। वह इरुकांचेरी और वेश्यारपादी इलाके में मरीजों को देखने के लिए जाते हैं।

doctor

सांकेतिक तस्वीर studying

स्टेनले मेडीकल कॉलेज से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने वाले वीराराघवन का जीवन संघर्ष भरा रहा है। वेश्यारपादी में अपना अधिकतर जीवन व्यतीत करने वाले वीराराघवन का साल 2015 में आई चेन्नई की बाढ़ में सबकुछ तबाह हो गया, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी। उन्होंने विकट परिस्थितियों का सामना किया और लोगों को अपनी सेवाएं देना जारी रखा।

वह अपने क्लिनिक में वंचित वर्गों का इलाज तो करते ही है, साथ ही वह कुष्ठ रोगियों के घावों को भरने का काम भी करते हैं। अधिकांश चिकित्सक पर्याप्त संसाधनों और एहतियात के अभाव में ऐसे मरीजों को छूने से परहेज करते हैं। वहीं, वीराराघवन इन सबके परे अपना कर्त्तव्य निभाते हुए अपनी सेवाएं दे रहे हैं।



वीराराघवन को लोग ‘दो रुपए वाले डॉक्टर’ कहकर भी पुकारते हैं। स्थानीय लोग उन्हें पसंद करते हैं। बता दें कि अपने करियर के शुरुआत से ही मरीजों से दो रुपए फीस लेने वाले वीराराघवन ने मरीजों के कहने पर ही अपनी फीस को एक बार दो रुपए से 5 रुपए कर दिया था।

doctor


Advertisement

 

डॉ. वीराराघवन इतने ज्यादा प्रसिद्ध हो गए कि आस पास के अन्य डॉक्टरों ने उनका विरोध करना शुरू कर दिया। डॉक्टरों ने बतौर फीस कम से कम 100 रुपए लेने को उनसे कहा। ऐसे में नि:स्वार्थ भाव से लोगों का इलाज का प्रण लिए वीराराघवन ने इसका एक अचूक रास्ता निकाला। उन्होंने मरीजों से पैसे लेने बंद कर दिए। अब उन्होंने मरीजों पर छोड़ दिया कि वह उन्हें जितने पैसे देंगे वह उसे स्वीकार करेंगे। अपने इस नेक कार्य को लेकर अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ़ इंडिया से अपनी बातचीत में डॉ वीराराघवन ने कहाः

“मैंने डॉक्टर बनने के लिए जो पढ़ाई की उसमें मुझे पैसे नहीं खर्च करने पड़े। यह पढ़ाई उन्होंने समाज की सेवा के लिए की है। मैं पूर्व मुख्यमंत्री के कामराज की नीतियों का शुक्रगुजार हूं, जिसने मुझे मरीजों का नि:शुल्क इलाज करने के लिए प्रेरित किया। मैंने संकल्प लिया था कि मैं अपने पेशे को पैसे कमाने का जरिया नहीं बनाऊंगा।”

वीराराघवन की आय का एक मात्र स्थिर स्रोत का जरिया एक कॉर्पोरेट अस्पताल है, जहां वह बतौर औद्योगिक स्वास्थ्य में एसोसिएट फेलो (AFIH) कार्यरत हैं।


Advertisement

उनके कई साथी सरकारी या निजी अस्पतालों में काम कर रहे हैं और विदेशों में अपने परिवार सहित बसे गए हैं, वहीं दूसरी ओर एक अलग ही सोच के साथ वीराराघवन अपने पथ पर डटे हुए हैं।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Health

नेट पर पॉप्युलर