विलुप्ति की कगार पर है दुनिया का सबसे फुर्तिला जानवर

author image
Updated on 4 Jan, 2017 at 12:05 pm

Advertisement

दुनिया का सबसे फुर्तिला जीव माना जाने वाला चीता अब विलुप्ति की कगार पर है। करीब 100 साल पहले धरती पर चीतों की तादाद 1 लाख से अधिक थी, लेकिन अब पूरी दुनिया में इनकी संख्या मात्र 7100 है। नैशनल अकैडमी ऑफ सायेंस के जर्नल में छपे शोध में जानकारी दी गई है कि चीतों की संख्या बहुत तेजी से कम होती जा रही है। इस शोध में मांग की गई है कि चीतों को लुप्तप्राय घोषित कर दिया जाए।

इस शोध की मुख्य लेखिका हैं सारा डुरांट। सारा ज़ूलॉजिकल सोसायटी ऑफ लंदन और वाइल्डलाइफ कंज़रवेशन सोसायटी में शोधकर्ता हैं। शोध में कहा गया है कि चीतों की आदतें रहस्यमयी होती हैं और यही वजह है कि उनके बारे में ठोस जानकारी जुटा पाना संभव नहीं हो रहा है। चीतों की अनदेखी की यह एक बड़ी वजह है।


Advertisement

शोध के मुताबिक, असंरक्षित क्षेत्रों में रहने वाले चीतों की संख्या में हर साल 10 फीसद तक कमी आती जा रही है। यही हाल रहा, तो अगले 15 सालों में चीतों की आधी आबादी खत्म हो जाएगी।

गौरतलब है कि चीते को दुनिया का सबसे तेज रफ्तार वाला और फुर्तिला जानवर माना जाता है। चीतों के आवास के लिए हजारों मील की खुली जगह की जरूरत होती है। कभी पूरे अफ्रीका और दक्षिण-पश्चिम एशिया में बहुतायत में पाए जाने वाले चीता इन्सानों की बढ़ती आबादी की वजह से कम होते गए। वे छोटे-छोटे समूहों में बंट गए और इस वजह से उनकी आबादी पर संकट मंडराने लगा।

एशिया में चीते बिल्कुल ही खत्म हो गए हैं। करीब 4 हजार चीते दक्षिणी अफ्रीकी देशों में हैं और बाकी के 31 सौ दुनिया के अलग-अलग देशों में।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement