‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ पर असंस्कारी होने का ठप्पा, सेन्सर बोर्ड ने किया पास करने से इन्कार

author image
Updated on 24 Feb, 2017 at 11:07 am

Advertisement

अवॉर्ड विनिंग फिल्म ‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ पर सेन्सर बोर्ड ने असंस्कारी होने का ठप्पा लगाते हुए इसे प्रतिबंधित कर दिया है।

सेन्सर बोर्ड का कहना है कि कोंकणा सेन शर्मा अभिनीत यह फिल्म कुछ अधिक ही महिला केन्द्रित है, इसलिए इसे दिखाने की अनुमति नहीं दी जा सकती। सेन्सर बोर्ड को इस फिल्म के यौन दृश्यों तथा भाषा पर आपत्ति है।

इस फिल्म में कोंकणा सेन शर्मा के अलावा रत्ना पाठक शाह, विक्रांत मैसी, अहाना कुमरा, प्लाबिता बोरठाकुर और शशांक अरोड़ा मुख्य भूमिका में हैं। जबकि इसके प्रोड्युसर हैं प्रकाश झा। यह फिल्म अलंकृता श्रीवास्तव के निर्देशन में बनी है।

केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) ने प्रकाश झा को एक पत्र लिखते हुए इस फिल्म को प्रमाणित नहीं किए जाने का कारण लिखा हैः

“फिल्म की कहानी महिला केंद्रित है और उनकी जीवन से परे फैंटेसियों पर आधारित है। इसमें यौन दृश्य, अपमानजनक शब्द और अश्लील ऑडियो हैं। यह फिल्म समाज के एक विशेष तबके के प्रति अधिक संवेदनशील है। इसलिए फिल्म को प्रमाणीकरण के लिए अस्वीकृत किया जाता है।”

फिल्म को सर्टिफिकेट नहीं दिए जाने पर सेन्सर बोर्ड की आलोचना हो रही है।

‘लिपस्टिक अंडर माय बुर्का’ महिलाओं पर केन्द्रित फिल्म है। इसमें चार महिलाओं की जिन्दगी का चित्रण है।

फिल्म का ट्रेलर आप यहां देख सकते हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement