इस करोड़पति शख्स ने खुद को गरीब बताकर स्कूल में कराया बच्चे का दाखिला, भांडा फूट गया

author image
Updated on 9 Apr, 2018 at 9:04 pm

Advertisement

क्या आपने 2017 में आई इरफान खान स्टारर फिल्म हिंदी मीडियम देखी है? अगर नहीं तो हम आपको मोटे तौर इस फिल्म की कहानी का प्लॉट बता देते हैं। इस फिल्म में दिल्ली का रहने वाला एक संपन्न जोड़ा अपनी बेटी का स्कूल में एडमिशन कराने के लिए गरीब होने का नाटक करता है।

 

ये बात तो हुई फिल्म की, लेकिन असल जिंदगी में भी एक ऐसा करोड़पति बिजनेसमैन है, जिसने अपने आपको आर्थिक रूप से कमजोर दिखाकर 2013 में अपने बेटे का दाखिला दिल्ली के चाणक्यपुरी इलाके के संस्कृति स्कूल में करा दिया।

 

thehindu


Advertisement

 

यहां हम बात कर रहे हैं गौरव गोयल की, जिसका ये अपराध पांच साल पुराना है, लेकिन मामला अब जाकर सामने आया है।

 

गौरव गोयल ने 2013 में अपने बेटे का दाखिला EWS कैटेगरी में कराया था। उसने बेटे के दाखिले के समय अपना पता संजय कैंप बताया, जो चाणक्यपुरी के पास एक स्लम एरिया है। यहां तक की उसने अपनी सालाना आय 67000 दिखाई। दाखिले की प्रक्रिया के समय जो भी कागजात उसने दिखाए वो सब फर्जी थे। वोटर कार्ड से लेकर बर्थ सर्टिफिकेट तक में फर्जीवाड़ा किया गया। गौरव ने स्कूल में जानकारी दी हुई थी कि वह एक एमआरआई सेंटर में काम करता है।

 

 



बता दें कि गरीब कोटा यानि EWS स्कूलों में गरीब बच्चों के लिए होता है। नियम के अनुसार, प्राइवेट स्कूलों में 25 प्रतिशत सीट आर्थिक रूप से कमजोर तबके के परिवारों के बच्चों के लिए आरक्षित होती है। बस फिर क्या था, गौरव ने स्कूल में अपने बेटे का दाखिला कराने के लिए गरीब बच्चों का हक मारने जैसा घटिया काम किया।

 

इस धोखाधड़ी का भांडा तब फूटा जब उसने 2018 में अपने दूसरे बेटे का दाखिला EWS कैटेगरी नहीं, बल्कि सामान्य कोटे से करवाया। जब स्कूल की तरफ से गौरव के पहले बेटे के दस्तावेज देखे गए तो उन्हें इसमें हुए फर्जीवाड़े की जानकारी मिली। स्कूल प्रबंधन ने दोनों बच्चों के दस्तावेज का मिलान किया तो उनमें अंतर दिखा। फिर स्कूल प्रशासन ने पुलिस को इस बात की जानकारी दी।

 

 

इस पूरी घटना के सामने आने के बाद पुलिस ने गौरव को जवाहर कॉलोनी स्थित उनके घर से गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस के मुताबिक, गौरव गोयल एमआरआई लैब में काम नहीं करता, बल्कि वह खुद उस लैब का मालिक है। गौरव दाल का व्यापार भी करता है। वह अपने काम के सिलसिले में करीब 20 देशों की यात्रा भी कर चुका है। इस मामले के सामने आने के बाद उसके बड़े बेटे को स्कूल से निकाल दिया गया है। वह तीसरी कक्षा में पढ़ रहा था।

 

 


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement