जानवरों पर इंसानों की क्रूरता को दर्शाती यह तस्वीर आपके दिल को छलनी कर सकती है

Updated on 8 Nov, 2017 at 7:50 pm

आमतौर पर इंसानों पर आरोप लगते रहे हैं कि वे जानवरों के साथ बेहद क्रूर व्यवहार करते हैं। इस संबंध में गाहे-बगाहे तस्वीरें भी रिलीज होती रही हैं। अब एक और तस्वीर इन्टरनेट पर वायरल हो रही है। इस तस्वीर को ‘वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी अवॉर्ड’ मिला है। इस बोलती हुई तस्वीर को खींचा है फोटोग्राफर विप्लब हाजरा ने।

यह तस्वीर आग की चपेट में आए हाथी और उसके बच्चे की है। यह ह्रदय विदारक तस्वीर जानवरों के प्रति इंसानी क्रूरता की कहानी बयां कर रही है। इस तस्वीर इंसानों को आईना दिखाया है।

इस फोटो को पश्चिम बंगाल के बांकुरा जिले में क्लिक किया गया था। इसमें दिख रहा है कि हाथी और उसका बच्चा लोगों की भीड़ से बचने के लिए भाग रहे हैं। पहले ही फोटोग्राफर बिप्लव हाज़रा ने इस तस्वीर का टाइटल ‘हेल इज हेयर’ यानी ‘नर्क यहीं है’ देकर स्पष्ट कर दिया है। तस्वीर में इंसानी भीड़ हाथी पर जलते टार बॉल्स की बारिश कर रही है।

सैंक्चुअरी एशिया नाम के एक फेसबुक पेज पर फोटो शेयर करते हुए लिखा गया है:

“आग की गर्मी नाजुक चमड़ी को झुलसा रही है। मां और उसका बच्चा भीड़ से बचने की कोशिश कर रहे हैं। हथिनी ने अपने कानों को ढंककर शोर-शराबे से ध्यान हटाने की कोशिश कर रही है, तो उसका बच्चा भय से चीख रहा है। वह आग की चपेट में आ गया है।”

फेसबुक पोस्ट में जानकारी दी गई है कि एशियाई हाथी भारत में ही सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। यहां विश्व के 70 प्रतिशत एशियाई हाथी मिलते हैं, लेकिन इस उपलब्धि के बावजूद हाथियों को खदेड़ा जा रहा है।

हाथियों के निवास स्थान को लगातार बर्बाद किया जा रहा है। यही वजह है कि जगह-जगह हाथी और लोगों के बीच संघर्ष देखने को मिलता है। सदियों से इस क्षेत्र में रह रहे इस स्मार्ट, जेंटल और सोशल एनिमल के लिए अब नर्क यहीं है।

सैंक्चुअरी नेचर फाउंडेशन की ओर से सालाना सैंक्चुअरी वाइल्ड लाइफ अवॉर्ड दिए जाते हैं। इस अवॉर्ड के लिए इस साल समूचे एशिया से 5 हजार से ज्यादा एंट्रीज में से इस तस्वीर को चुना गया है।

आपके विचार