Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

दोनों हाथ नहीं हैं, फिर भी पैरों से उड़ने की जिद; कमजोरी को बना लिया हथियार

Updated on 16 April, 2017 at 9:37 pm By

सपनों को सच करने के लिए पंखों की नहीं हौसले की जरूरत होती है। ये है हिसार की रहने काली मीनू, जिसने 2 साल की उम्र में अपने दोनों हाथ ट्रेन की चपेट में आने की वजह से गंवा दिए थे।



नीरू के माता-पिता के लिए ये किसी सदमें से कम नहीं था। लेकिन नीरू जैसी-जैसी बड़ी होती गई, उसने इसे अपनी कमजोरी मानने के बजाय, इसके साथ जीना सिख लिया, जिसमें वह सफल भी रही।

मीनू किसी पर बोझ नहीं बनना चाहती इसलिए वह अपना हर काम खुद ही करती है। साइकिल चलाना हो या पैरों से लिखना, कपडे धोना, साफ सफाई वह हर काम बखूबी तरीके से करती है।

पढ़ने लिखने में अव्वल मीनू 5वीं कक्षा में पढ़ती है। उसके माता-पिता मजदूरी का काम करते है। मीनू के पिता कृष्ण कुमार अपनी बेटी को लेकर कहते है कि वह अपनी बेटी को किसी से कम नहीं समझते।


Advertisement

उनके लिए मीनू वैसी ही है जैसी की और आम लडकियां। मीनू उनके लिए आम होकर भी ख़ास है और खास होकर भी आम।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें Culture

नेट पर पॉप्युलर