इस एक और घटना ने उठाया अहम सवाल, क्या बॉलर को भी अब हेलमेट पहनना चाहिए?

Updated on 24 Feb, 2018 at 12:18 pm

Advertisement

न्यूजीलैंड के घरेलू टूर्नामेंट फॉर्ड ट्रॉफी के दौरान हुई एक घटना ने क्रिकेट में पुरानी बहस को फिर से तरोताजा कर दिया है। हाल ही में जब वनडे क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल मैच में ऑकलैंड और कैंटरबरी की टीमें खेल रही थीं, तो कुछ ऐसा हुआ, जिसने सबको हिलाकर रख दिया।

दरअसल, मैच के दौरान ऑकलैंड के बल्लेबाज जीत रावल ने एंड्रयू एलिस की बॉल पर एक शॉट खेला, जो सीधे गेंदबाज एलिस के सिर पर जा लगा। बॉल की गति इतनी थी कि सर से टकराकर वह गेंद बाउंड्री रेखा के पार चली गई और बल्लेबाज के खाते में 6 रन आए।

हालांकि, एलिस को इस घटना में कुछ ख़ास चोटें नहीं आई, लेकिन खेल जगत में यह हलचल मच गई है कि इस तरह से कोई बड़ी दुर्घटना हो सकती थी।


Advertisement

 

 

अब ऐसी बहस छिड़ गई है कि क्या बॉलर को भी अब बल्लेबाज की तरह ही हेलमेट पहनना चाहिए! वैसे सुरक्षा को ध्यान में रखकर ये जरूरी भी लगता है। इससे जुड़े ही एक मामले में आपको बता दें कि न्यूजीलैंड के घरेलू क्रिकेटर वॉरेन बार्न्स बीते साल दिसंबर में सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने गेंदबाजी के समय एक खास हेलमेट पहना था।

 



बार्न्स मानते हैं-

 

“अब क्रिकेट में गेंदबाजों के लिए भी हेल्मेट जरूरी हो गया है। इसे देखते हुए नए नियम की आवश्यकता है, जिससे ऐसी परिस्थितियों में बॉलर की सुरक्षा हो सके। टी-20 की लोकप्रियता से बल्लेबाज अधिक आक्रामक खेलने लगे हैं और आवश्यक सुधार की जरूरत महसूस की जा रही है।”

 

 

उल्लेखनीय है कि बीते सालों में गेंद से कुछ अप्रिय घटनाएं भी हुई हैं। साल 2014 में ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर फिलिप ह्यूज के घरेलू मैच के दौरान एक गेंद गर्दन पर लग गई थी गेंद लगने के बाद वह मैदानपर ही गिर पड़े थे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था जहां ब्रेन हैमरेज से उनकी मौत हो गई थी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement