इस लड़के का दावा है कि यह पूर्वजन्म में मंगल ग्रह का प्राणी था

Updated on 8 Nov, 2017 at 8:31 pm

Advertisement

इंसान आमतौर पर खोजी प्रवृत्ति का होता है। यही वजह है कि इंसान पृथ्वी के अलावा चांद से लेकर मंगल ग्रह तक जाकर बस्तियां बसाना चाहता है। पिछले कुछ माह में हमने कई ऐसी खबरें प्रकाशित की हैं जिनमें चांद और मंगल पर इंसानी योजनाओं को अमली-जामा पहनाने की बातें कही गई हैं। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा एक छोटा न्यूक्लियर रिऐक्टर विकसित करने में लगा हुआ है, जिससे मंगल पर जीवन बसाने की दिशा में आखिरी तकनीकी बाधा भी खत्म हो जाएगी। मंगल पर पानी मिलने के बाद जीवन के लिए ऊर्जा पैदा करना अहम् मकसद है।

यह तो हुई भविष्य की बात। अब बात एक ऐसे रूसी लड़के की जिसने खुद को मंगल ग्रह से जुड़ा बताया है। रूस में रहने वाले बोरिस्का मिप्रियानोविच का दावा है कि वह पिछले जन्म में मंगल ग्रह का निवासी था।

वोल्गोग्राद में रहने वाला बोरिस्का अंतरिक्ष को लेकर विशिष्ट ज्ञान रखता है।


Advertisement

बोरिस्का की मां ने कहाः

“यह बहुत ही अलग बच्चा है। यह अपने जन्म के कुछ महीनों बाद ही ऐसी बातें करने लगा, जो हमने उसे कभी बताया नहीं था। बोरिस्का एक साल की उम्र में अख़बार की हेडलाइंस पढ़ लेता था। ढाई साल का होते-होते वह पेंटिंग भी करने लगा था।”

बोरिस्का छोटी उम्र से ही एलियंस को लेकर खुलासे करता आया है। उसके अनुसार, मंगल पर लगभग 7 फ़ुट लंबे लोग आज भी रहते हैं और वो कार्बन डाइऑक्साइड सांस के रूप में लेते हैं। बोरिस्का का दावा है कि मंगल ग्रह पर परमाणु युद्ध के चलते वहां की सभ्यता को खासा नुकसान हुआ है।

बोरिस्का के मुताबिक, मंगलग्रही अमर हैं और 35 साल का होने के बाद उनकी उम्र रुक जाती है। इतना ही नहीं, वहां के लोग ब्रह्माण्ड का चक्कर भी लगा सकते हैं। बोरिस्का के मुताबिक, वह पूर्व जन्म में मंगल ग्रह का एक पायलट था और पहले भी पृथ्वी पर आ चुका है।

बोरिस्का के मुताबिक, मिस्र में मौजूद पिरामिड खोलने पर धरती के लोगों की ज़िंदगी पूरी तरह से बदल सकती है। उसने यह भी कहा कि प्राचीनकाल में मंगल ग्रह का मिस्र का साथ संबंध था और पिरामिड में वही राज दफन हैं। बोरिस्का ने कहा कि धरती पर बहुत अनुसंधान और विकास होना बाकी है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement