यह शख्स फिल्मी सितारों को सिखाता है हिंदी

author image
Updated on 14 Sep, 2018 at 4:33 pm

Advertisement

14 सितंबर हर साल हिन्दी दिवस के रूप में मनाया जाता है। एक से बढ़कर एक कवियों एवं लेखकों ने इस भाषा को नई ऊंचाई दी है। आज हम आपको एक ऐसे हिंदी शिक्षक के बारे में बताने जा रहे हैं, जो फिल्म सितारों को हिंदी सिखाते हैं। इन सितारों को आप पर्दे पर फर्राटेदार हिंदी बोलते देखते हैं, मगर असल में इनमें से ज्यादातर के हाथ हिंदी में तंग हैं। ऐसे में बॉलीवुड में टिकना है तो हिंदी आना इसकी डिमांड है, ऐसे में कई फिल्मीं सितारें हिंदी सीख भी रहे हैं और इसमें हिंदी शिक्षक विनय शुक्ला का बहुत बड़ा योगदान है।

 

View this post on Instagram


Advertisement

A post shared by Vinay Shukla (@vinaysir) on

हिंदी और तमिल-तेलुगु फिल्मों की जानी पहचानी एक्ट्रेस तमन्ना भाटिया अपनी पढ़ाई के दौरान ही फिल्मों में आ गई थीं। उन्होंने विनय शुक्ला से हिंदी सीखी है। तमन्ना, विनय शुक्ला से काफी लम्बे से हिंदी भाषा सीख रही हैं।

 

 

‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’, ‘शुभ मंगल सावधान’ और ‘जोर लगा के हईसा’ जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में एक्टिंग का लोहा मनवा चुकीं भूमि पेडनेकर भी विनय शुक्ला के शिष्यों में से एक हैं।

 

 

‘माई नेम इज खान’ में शाहरुख खान के बेटे का किरदार निभाने वाले अर्जुन औजला भी विनय शुक्ला से हिंदी की क्लास ले चुके हैं।

 

प्लेबैक सिंगर कुमार सानू के बेटे जीको भट्टाचार्य और अभिनेता अनुपम खेर की भतीजी वृंदा खेर भी शुक्ल के शिष्यों में शामिल हैं। यही नहीं, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के दोनों बेटों आदित्य व तेजस ने भी विनय शुक्ला से हिंदी भाषा की तालीम ली है। इन दोनों की हिंदी में पकड़ कच्ची हुआ करती थी, लेकिन ये विनय शुक्ला की ही शिक्षा का नतीजा है कि आज इनकी हिंदी भाषा पर अच्छी पकड़ है।

 

 

 

 

 

आपको ये बता दें कि हिंदी शिक्षण की बदौलत विनय शुक्ल आज शिवसेना के सक्रिय नेता भी बन गए हैं। शुक्ला फिलहाल शिवसेना के उत्तरभारत प्रभारी हैं। आज ठाकरे परिवार के निवास स्थान मातोश्री में उनकी सीधी पहुंच है।

 

 

कई बार विदेशों में शूटिंग कर रहे बॉलीवुड सितारें किसी डायलॉग के शब्द का मतलब और सही उच्चारण जानने के लिए उन्हें फ़ोन भी करते हैं। शुक्ला कहते हैं कि हिंदी फिल्मों के सितारे हिंदी में सही उच्चारण के साथ-साथ हिंदी के शब्दों का सही मतलब भी समझना चाहते हैं, क्योंकि उन्हें इस बात का आभास है कि वे जो संवाद बोल रहे हैं, उसका अर्थ नहीं जानते तो स्वभाविक अभिनय नहीं कर पाएंगे।

View this post on Instagram

लंबे अर्से बाद किसी औपन्यासिक कृति का अध्ययन करते हुए !!!

A post shared by Vinay Shukla (@vinaysir) on


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement