आप जानते हैं कि बॉलीवुड फिल्मों में इस्तेमाल हुए कपड़ों का होता क्या है?

Updated on 12 Jun, 2018 at 12:43 pm

Advertisement

बॉलीवुड में सैकड़ों फ़िल्में हरेक साल बनती हैं और इनमें पहने कपड़ों बेहद ही महंगे होते हैं। जाहिर है बजट का एक हिस्सा इस पर ही खर्च होता है। आखिर कलाकारों के पहनावे से भी बहुत फर्क पड़ता है। लिहाजा निर्माता-निर्देशक कपड़ों के मामले में कोई कटौती नहीं करते हैं। कुछ फिल्मों के लिए कहानी की मांग के अनुरूप अलग से कपड़े बनवाए जाते हैं।

 

 

अब सवाल ये उठता है कि बॉलीवुड फिल्म बन जाने के बाद इन कपड़ों का होता क्या है?

 

 

एक अखबार में छपी रिपोर्ट के अनुसार, यशराज फिल्म के स्टाइलिस्ट ने स्पष्ट कहा है कि स्टार्स द्वारा पहने कपड़ों को लेबल लगाकर ट्रंक में बंद कर दिया जाता है। कपड़ों पर फिल्म नाम अंकित कर इसे पैक करके भूल जाते हैं।

 

लेकिन क्या वाकई सभी लोग ऐसा ही करते हैं!

 

 

बता दें कि सभी ऐसा नहीं करते हैं बल्कि कुछ निर्माता स्टार्स को कपड़े गिफ्ट कर देते हैं। ये अलग बात है कि स्टार्स इन कपड़ों को सार्वजनिक जगह पर पहनने के बजाए याद के तौर पर संजो कर रख लेते हैं। एक पक्ष ये भी है कि कुछ स्टार्स सेट पर अपने कपड़ों में शूटिंग करते हैं जिससे किरदारों में ख़ास टच आ सके।


Advertisement

 

 

ये भी देखा जाता है कि सामजिक कार्य के लिए धन जुटाने के उद्देश्य से इन कपड़ों की नीलामी भी की जाती है। जैसे कि रजनीकांत और ऐश्वर्या राय ने रोबोट फिल्म में पहने अपने कपड़ों को एक एनजीओ की मदद के लिए नीलाम कर दिए थे।

 

 

ऐसा ही फिल्म ‘मुझसे शादी करोगी’ के बारे में भी सुनने को मिला। गाने ‘जीने के हैं चार दिन’ में डांस करते हुए सलमान ने जिस तौलिये का इस्तेमाल किया था, उसे 1 लाख 42 हजार रुपए में नीलाम किया गया था। 2009 में नीलाम हुए तौलिए से मिले धन को भी एक एनजीओ को दे दिया गया था।

 

 

उल्लेखनीय है कि संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘देवदास’ के गाने ‘मार डाला में माधुरी दीक्षित ने जो लहंगा पहना था, उसे नीलामी में 3 करोड़ मिले थे। ये भी एक जरिया होता है कपड़ों को खपाने का लेकिन अगर कोई बड़ा डिजाइनर किसी फिल्म में कपड़ों को डिजाइन करता है तो वह भी कपड़ा वापस ले जा सकता है।

 

 

मिलाजुला कर इन कपड़ों का यही हश्र होता है!

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement