दफन हुए शव के पेट से उगा अंजीर का पेड़, 40 साल बाद सुलझी ‘मर्डर मिस्ट्री’

Updated on 28 Sep, 2018 at 4:01 pm

Advertisement

कई बार अजीबोगरीब घटनाएं होती हैं, जो सबको चौंका देती हैं। किस्से-कहानियों या फिर फिल्मों में दिखाए जाने वाले वारदात जब असल जीवन में होते हैं, तब भरोसा करना मुश्किल हो जाता है। ऐसी एक घटना ने शोध करने वालों को भी हैरान कर दिया है, जब उन्होंने एक निर्जन पहाड़ी पर अंजीर का पेड़ उगा देखा। साल 2011 में इस अंजीर के पेड़ का पता लगाया गया, जिसके तार दशकों पहले की एक घटना से जुड़े हुए थे।

तुर्की की यह घटना मर्डर मिस्ट्री थी।

 

पहाड़ पर उगे अंजीर के पेड़ ने इतिहास की परतें खोल कर रख दी!

 


Advertisement

 

शोधकर्ताओं ने अंजीर के पेड़ के चारों तरफ खोदा, तो वे भौंचक्के रह गए। पेड़ की जड़ में मानव कंकाल दबा पाया गया। दरअसल, अंजीर का पेड़ उस दबी लाश के पेट से ही उगा था। तहकीकात से ज्ञात हुआ कि वह लाश तुर्की के एक लापता शख्स की है जिसकी 1974 में हत्या कर दी गई थी। मौत के समय उस शख्स के पेट में अंजीर का बीज था।

 



 

खुलासे के मुताबिक, मृत व्यक्ति अहमत हर्ग्यून की मौत ग्रीक साइप्रस और तुर्की साइप्रस के बीच हुए संघर्ष में हो गई थी। वहीं, बरामद हुए दो अन्य लाशें उसके साथियों की थीं। शोधकर्ताओं का स्पष्ट कहना है कि मरने से कुछ देर पहले हर्ग्यून ने अंजीर खाया। हर्ग्यून व दो अन्य व्यक्तियों की डायनामाइट विस्फोट में मृत्यु हो गई थी, जब वे तुर्की रेसिसटेंस ऑर्गेनाइजेशन (टीएमटी) में शामिल हुए थे।

 

हर्ग्यून की 87 वर्षीय बहन मुनुर ने ग्रीक लोगों पर हत्या का आरोप लगाया है! वाकई ऐसी घटना बेहद कम ही देखने को मिलती है, जब सालों बाद किसी कारण की खोज होती है।

मामले में प्रकृति ने अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है!


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement