‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ गेम ने ली 14 साल के बच्चे की जान, बच्चों को रखें इस खूनी खेल से दूर

author image
Updated on 6 Sep, 2017 at 5:01 pm

इंटरनेट पर हम जो कुछ भी देखते हैं हमें उस पर आंख मूंद के विश्वास नहीं करना चाहिए, लेकिन कुछ इसे भूल जाते हैं। उनमें से एक है मुंबई का रहने वाला 14 वर्षीय मनप्रीत, जिसने खूनी खेल कहे जाने वाले ‘ब्लू व्हेल गेम’ की वजह से आत्महत्या कर ली।

‘ब्लू व्हेल चैलेंज’ या’ द ब्लू व्हेल गेम’ ने मनप्रीत को अपनी इमारत की 7वीं मंजिल से छलांग लगाने के लिए मजबूर कर दिया और कोई कुछ नहीं कर पाया। मनप्रीत ने छलांग लगाने से पहले इंटरनेट पर सर्च किया था कि छलांग कैसे लगाई जाए।

जिस दिन उसने आत्महत्या की, वह अपनी छत की बाउंड्री पर लगभग बीस मिनट तक बैठा रहा। 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले मनप्रीत ने अपने आत्महत्या करने की बात अपने दोस्तों को बताई थी, लेकिन किसी ने भी उसे गंभीरता से नहीं लिया।

मुंबई पुलिस ने बताया कि मनप्रीत ब्लू व्हेल गेम का आदी था। गेम खिलाड़ियों को 50 टास्क्स देता है और खेल के आखिरी पड़ाव में खिलाड़ी को आत्महत्या करने की चुनौती देता है।

कूदने से पहले मनप्रीत ने एक तस्वीर भी ली थी। इसमें उसके पैर दिखाई दे रहे हैं और कैप्शन लिखा है- “जल्द ही आपके साथ मेरी यह तस्वीर रह जाएगी।”



यह खूनी ‘ब्लू व्हेल गेम’ रूस में बनाया गया है। मोबाइल फोन और लैपटॉप के जरिए खेले जाने वाले इस खेल में खिलाड़ी को 50 दिन अलग-अलग टास्क मिलते हैं। रोज टास्क पूरा होने के बाद अपने हाथ पर निशान बनाना होता है, जो 50 दिन में पूरा होकर व्हेल का आकार बन जाता है। ऐसा होते ही फिर टास्क पूरा करने वाले को आत्महत्या करनी होती है।

इस गेम को खेलते हुए अभी तक दुनिया भर में 200 से ज्यादा लोग अपनी जान दे चुके हैं। भारत में इस गेम की वजह से आत्महत्या का यह पहला मामला सामने आया है। रूस, अमेरिका और यूरोप में पुलिस ने इस ‘सुसाइड गेम’ को लेकर चेतावनी जारी कर रखी है। अभिभावकों को बच्चों पर नजर रखने को कहा गया है।  सोशल मीडिया के जरिए जागरुकता फैलाई जा रही है।

आप पाठकों से भी अनुरोध है कि आस-पास नजर रखें और सतर्क रहें।

आपके विचार