Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

डॉलर से महंगा हुआ भारत का रुपया, बढ़ रही है कालाबाजारी

Published on 12 October, 2016 at 9:25 pm By

वर्ष 2015 में एक रुपए के नए नोट के चलन में आने के बाद इसकी कालाबाजारी बढ़ गई है।

1

भारत सरकार ने वर्ष 1994 में एक रुपए के नोट की छपाई बंद कर दी थी। लेकिन इसे एक बार फिर शुरू किया गया है। माना जा रहा है कि इस नोट की खूबसूरती की वजह से यह लोगों को भा रहा है और लोग इसकी जमाखोरी करने लगे हैं।


Advertisement

एक नोट की छपाई की लागत आती है एक रुपए 14 पैसे की। जबकि दिल्ली के बाजारो में ये नोट चार से पांच रुपए में बिक रहा है। इसे खुलेआम ब्लैक में बेचा जा रहा है।

जहां तक इन्टरनेट की बात है तो यहां एक रुपए करेन्सी का बंडल 700 से 800 रुपए के बीच मिल रहा है। वहीं, एक अन्य अॉनलाइन पोर्टल पर एक रुपए को 99 रुपए में बेचने की बात कही जा रही थी।

एक रुपए की कालाबाजारी का आलम यह है कि वर्ष 1991 के नोटों के बंडल की कीमत ढ़ाई लाख रुपए रखी गई है।

कई ऑनलाइन पोर्टल्स एक रुपए के नोट को 49 रुपए में बेच रहे हैं। शिपिंग के नाम पर 50 रुपए अलग से वसूले जा रहे हैं। इस तरह एक रुपए की कीमत हो जाती है 99 रुपए।



मजे की बात यह है कि इन नोटों पर आरबीआई गर्वनर के दस्तख्वत भी नहीं हैं। इस पर तात्कालीन वित्त सचिव राजव महर्षि के हस्ताक्षर हैं।

2


Advertisement

Source: Suno

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर