हेट स्पीचः BJP विधायक पर FIR, लेकिन AIMIM नेता के विस्फोटक बयान पर चुप्पी क्यों?

author image
Updated on 11 Apr, 2017 at 6:11 pm

Advertisement

भारतीय जनता पार्टी के विधायक टी राजा सिंह के खिलाफ हैदराबाद पुलिस ने मामला दर्ज किया है। सिंह ने पिछले दिनों कथित रूप से अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण का विरोध करने वालों को सिर काटने की धमकी दी थी।

Indian Express

इन्टरनेट पर एक कथित विडियो वायरल हो रहा है, जिसमें हैदराबाद में घोषामहल विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने वाले राजा सिंह कहते सुने गए हैं कि वह अयोध्या में राम मंदिर के लिए अपनी जान दे सकते हैं और यहां तक कि मंदिर के निर्माण का विरोध कर रहे गद्दारों की जान ले भी सकते हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, राजा सिंह ने कहाः


Advertisement

“हम ऐसे लोगों को इस देश में रहने नहीं देंगे जो इस देश का नाश करने में विश्वास रखते हैं। अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हमारा संकल्प है और हम इसका पालन करेंगे।”

मुस्लिमों के एक स्थानीय संगठन मजलिस बचाओ तहरीक नामक एक संगठन ने राजा सिंह के खिलाफ रविवार को एक शिकायत दर्ज करवाई है। राजा सिंह के खिलाफ भारतीय दंड विधान के धारा 295A (समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाओं को जानबूझकर आहत करने) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

यह सही है कि नफरत फैलाने वाले किसी भी व्यक्ति के खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए, लेकिन समस्या तब शुरू होती है, जब इस तरह के मामलों की रिपोर्टिंग कर रही मीडिया सिर्फ एक पहलू को देखती है और दूसरा पहलू सिरे से नजरअंदाज कर दिया जाता है। इस घटना में भी ऐसा ही कुछ हुआ है।



टी राजा सिंह के खिलाफ भले ही मामला दर्ज कर लिया गया हो, लेकिन इसी तरह की बयानबाजी के मामले में AIMIM नेता शादाब चौहान को खुली छूट मिली हुई है।

राजा सिंह का विडियो वायरल होने से पहले शादाब का एक विडियो इन्टरनेट पर चर्चा का विषय बना था।

विडियो में शादाब पूरे देश को धमकाते हुए दिख रहे हैं।

“अगर राम मंदिर अवैध तरीके से बनाया गया तो देश में इतने बड़े पैमाने पर हिंसा होगी कि पूरी दुनिया याद रखेगी।”

जब शादाब को राजा सिंह के बयान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने इसकी निन्दा की, लेकिन वह राम मंदिर अवैध तरीके से बनाए जाने पर देश में हिंसा का तांडव मचाने के अपने बयान पर बने रहे।

मीडिया ने शादाब के बयान और विडियो पूरी तरह से नजरअंदाज किया है, लेकिन राजा सिंह के बयान को पूरी तवज्जो दी है। हमें लगता है कि सिर्फ राजा सिंह ही नहीं, बल्कि शादाब खान की टिप्पणी की भी निन्दा की जानी चाहिए, क्योंकि यह बयान भी हेट-स्पीच की श्रेणी में ही आता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement