बिरयानी, मोमोज के नाम पर कहीं आप भी तो नहीं खा रहे कुत्ते का मीट !

author image
Updated on 15 May, 2017 at 12:26 pm

Advertisement

पिछले 1 अप्रैल को गुड़गांव के DLF फेज II से लापता होने वाले कु्त्ते ब्राउनी के लिए अनुपमा श्रीवास्तव ने एक #justiceforBrownie ऑनलाइन अभियान छेड़ दिया है।

इस अभियान के जरिए अनुपमा सभी को बताना चाहती हैं कि उनके कुत्ते ब्राउनी को कुछ लोग अगवा करके खा गए। अनुपमा कहती हैं कि यहां से गायब हुए कुत्ते दरअसल लोगों के खाने की प्लेट में सजते हैं। इस ऑनलाइन याचिका का समर्थन अब तक 458 लोगों ने किया है।

याचिका में आरोप लगाया गया है कि मोमो, बिरयानी और कबाब जैसे खाद्य पदार्थों में कुत्ते का मीट इस्तेमाल किया जाता रहा है और इस पर रोक लगाया जाना चाहिए।


Advertisement

श्रीवास्तव का कहना है कि उन्हें शक है कि उनके कुत्ते ब्राउनी को कुछ लोगों ने अगवा कर लिया और मारकर खा गए। इस मामले में पुलिस ने संदेह के आधार पर फिलिप नामक एक व्यक्ति से पूछताछ की है। हालांकि, उसे सबूत के अभाव की वजह से गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। अनुपमा ने अपने कुत्ते की तलाश के लिए ईनाम देने की घोषणा भी की थी। साथ ही उन्होंने कुत्ते को खोजने के लिए 2 हज़ार का पोस्टर भी छपवाया।

इसी इलाके में रहने वाली सोनिया भारद्वाज का कुत्ता मोटू भी पिछले 11 अप्रैल से लापता है। इन दोनों मामलों में पुलिस में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement