‘प्यार तो होना ही था’ में काजोल के मंगेतर बने इस अभिनेता को आप अब पहचान नहीं सकेंगे

Updated on 17 Nov, 2017 at 6:59 pm

Advertisement

बॉलीवुड में जितनी जल्दी शोहरत मिलती है, उतनी ही जल्दी लोग उसे भुला भी देते हैं। कई ऐसे कलाकर हैं, जिन्होंने फिल्मों में अच्छी शुरुआत की, लेकिन कुछ दिनों बाद उनके हिस्से गुमनामी आ गई। एक ऐसे ही कलाकार हैं बिजय आनंद। नहीं पहचाना न! आपको काजोल और अजय देवगन की फिल्म कहो न प्यार है तो याद होगी ही! इस फिल्म में काजोल का एक प्रेमी था राहुल। याद आया!

जी हां, यही राहुल बिजय आनंद है जो अब इतने बदल चुके हैं कि आप तो क्या शायद काजोल भी इन्हें पहचान नहीं पाएंगी।

वर्ष 1998 में आई फिल्म ‘प्यार तो होना ही था’ वैसे जो काजोल और अजय देवगन की लव स्टोरी थी, लेकिन इस फिल्म में काजोल के प्रेमी राहुल का रोल भी अहम था। राहुल के रोल के लिए विजय को बहुत मेहनत करनी पड़ी, तब जाकर लोगों ने इसे नोटिस किया। इस फिल्म के बाद विजय को कई फिल्में मिलीं।


Advertisement

एक साक्षात्कार में उन्होंने बताया था कि उन्हें 22 फिल्मों के ऑफर मिले थे। कई फिल्म-मेकर्स ने विजय की एक्टिंग की तारीफ भी कि लेकिन उन्होंने तय कर लिया था कि आगे वह एक्टिंग को करियर नहीं बनाएंगे। आपको बता दें कि ‘प्यार तो होना ही था’ उनकी पहली फिल्म नहीं थी। इससे पहले वो 1996 में आई फिल्म ‘यश’ में भी दिखे थे।

विजय अब ऐसे दिखते हैं।

गजब का बदलाव।

और अब इतने सालों बाद बिजय एक बार फिर परदे पर दिखाई दिए, मगर बड़े नहीं छोटे परदे यानी टीवी पर। हाल ही में बिजय धार्मिक सीरियल सिया के राम में दिखे।



अब हैं योगा टीचर

36 साल की उम्र में बिजय को आर्थराइटिस हो गया था। इसके बाद उन्होंने 17 साल कुंडलिनी योगा को समर्पित कर दिए और उन्होंने अपनी सेहत पर ध्यान देना शुरू किया। अब विजय योगा टीचर बन चुके हैं।

छोटा परिवार, सुख का आधार।

बिजय की पत्नी सोनाली खरे मराठी फिल्म अभिनेत्री हैं और इनकी एक प्यार बेटी है जिसका नाम सनाया है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement