परीक्षा दी अंग्रेजी ऑनर्स की और प्रमाणपत्र मिला साइकोलॉजी में

Updated on 19 Dec, 2017 at 5:09 pm

Advertisement

बिहार की शिक्षा व्यवस्था के किस्से सोशल मीडिया की सुर्खियों में बने रहे हैं। कभी खुलेआम चीटिंग को लेकर तो कभी फर्जी टॉपर्स की वजह से। अब एक ऐसी ही ‘अभूतपूर्व’ घटना सामने आई है। खबर है कि अंग्रेजी ऑनर्स की परीक्षा देने वाले एक छात्र को साइकोलॉजी का प्रमाण दे दिया गया।

यह घटना जिस छात्र से साथ घटित हुई है, उसका नाम मोहम्मद तबरेज है। वह मुजफ्फरपुर स्थित भीमराव आंबेडकर बिहार यूनिवर्सिटी के अंतर्गत पड़ने वाले पश्चिमी चम्पारण के बेतिया स्थित राम लखन सिंह यादव कॉलेज में बीए पार्ट-1 का छात्र है। इस रिपोर्ट के मुताबिक, तबरेज ने अंग्रेजी ऑनर्स की परीक्षा दी थी, लेकिन उसे साइकोलॉजी का प्रमाण प्रमाणपत्र दे दिया गया। हालांकि, उसका इस विषय के साथ दूर-दूर तक कोई नाता नहीं है। इस वजह से यह छात्र अब परेशान है।

रिपोर्ट में तबरेज के हवाले से बताया गया हैः

“मैनें अंग्रेजी ऑनर्स पेपर की परीक्षा दी थी। मेरे सब्सीडियरी पेपर्स भूगोल और इतिहास थे। हालांकि, मुझे साइकोलॉजी ऑनर्स में पास दिखाया गया है। यही नहीं, मुझे साइकोलॉजी के प्रैक्टिकल परीक्षा में भी उत्तीर्ण दिखाया गया है।”

भटवलिया गांव में रहने तबरेज ने जब इस संबंध में कॉलेज से संपर्क किया तब उसे यूनिवर्सिटी जाने की सलाह दी गई, जो यहां से करीब 128 किलोमीटर दूर मुजफ्फरपुर में स्थित है।


Advertisement

तबरेज कहता हैः

“मेरे एडमिट कार्ड नंबर 104762 में साफ लिखा हुआ है कि मेरे विषय अंग्रेजी ऑनर्स, भूगोल और इतिहास थे।”

राम लखन सिंह यादव कॉलेज के एक शिक्षकेत्तर कर्मचारी का कहना है कि करीब 40 फीसदी परीक्षार्थियों के मार्क्सशीट्स में गड़बड़ियां हैं। यहां तक कि जिन लोगों ने परीक्षा दी थी उन्हें अनुपस्थित बताया गया है।

हाल के दिनों में बिहार के शिक्षा व्यवस्था की कलई खुलती रही है। बिहार की परीक्षाओं में नकल के चर्चे आम होते हैं।

 

पिछले साल ही बिहार में टॉपर घोटाला सामने आया था। कई टॉपर्स की गिरफ्तारी हुई थी।

 

एक के बाद एक ऐसे वाकयों से बिहार की शिक्षा व्यवस्था पर सवालिया निशान लग रहा है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement