मिथिला पेंटिंग से सजी ट्रेन का परिचालन शुरू, जानिए क्यूं है ख़ास!

Updated on 23 Aug, 2018 at 6:39 pm

Advertisement

मिथिला पौराणिक नगरी रही है और भारतीय संस्कृति को हमेशा ज्ञान-विज्ञान से पूरित किया है। सीता की धरती के रूप में इसे लोग अधिक जानते हैं, जहां श्रीराम धनुष भंग कर विवाह बंधन में बंधे थे। भाषा-संस्कृति और ज्ञान-विज्ञान की धरती पर कला भी अपनी पराकाष्ठा में मौजूद है, लेकिन उसे तलाशने और तराशने की जरूरत है।

 

बीते दिनों मधुबनी स्टेशन को जब मिथिला पेंटिंग (जिसे मधुबनी पेंटिंग भी कहा जाता है) से सजाया गया तो ये सुर्ख़ियों में बना और तब से किसी न किसी रूप में इसकी चर्चा जारी है। फिलवक्त बिहार संपर्क क्रांति ट्रेन को पेंटिंग से पूरी तरह सजाकर दिल्ली रवाना किया गया है।

 


Advertisement

 

बिहार संपर्क क्रांति ट्रेन के 9 डिब्बों पर मिथिला पेंटिंग कर कलाकृतियां उकेरी गई हैं। बिहार से दिल्ली के बीच जिस किसी स्टेशन से यह ट्रेन गुजरती है, लोग पेंटिंग देखकर आकर्षित हुए बिना नहीं रह पाते। इस ट्रेन की दरभंगा से बुधवार को दिल्ली रवानगी हुई है।

 

 



भारतीय रेलवे के प्रयास से कलाकारों ने ट्रेन के डिब्बों पर परंपरागत पेंटिंग की है। शीघ्र ही कई और ट्रेनों को मिथिला पेंटिंग से सजाया जाएगा। बता दें कि इस पेंटिंग के कारण बिहार के मधुबनी रेलवे स्टेशन सहित कई स्टेशनों की तस्वीर बदल चुकी है। मधुबनी स्टेशन जो कि गंदगी के लिए जाना जाता था, यहां की दीवारें इस पेंटिंग से खिल उठी हैं।

 

मिथिला के ग्रामीण महिलाओं द्वारा किया जाने वाला ये पेंटिंग अब प्रदेश के मुख्यमंत्री आवास से लेकर राजधानी दिल्ली तक उपस्थित है तो वहीं इसके संग्रहालय जापान में भी मौजूद हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार खुद पेंटिंग की तस्वीर टि्वटर पर साझा करते हुए लिखते हैं कि देश ही नहीं, दुनिया के कई विकसित राष्ट्र मधुबनी पेंटिंग की विशिष्टता पर मोहित हैं!

 

 

यह पेंटिंग मिथिला की लोककला है, जिसमें अनूठे ज्यामितीय पैटर्न का उपयोग कर महीन रेखाओं वाली रंगीन चित्रकारी की जाती है। आम बोलचाल में इसे लिखिया भी कहा जाता है। इस पेंटिंग की मांग देश-विदेश में दिनों-दिन बढ़ती जा रही है।

 

arteducation.in


Advertisement

इस कला की पुरातनता को इसी से समझा जा सकता है कि यह कला मिथिला नरेश राजा जनक के समय से ही कायम है। उभरते वैश्विक बाजार को देखते हुए इसमें अपार संभावनाएं देखी जा रही है।

आपके विचार


  • Advertisement