बिहार बोर्ड की जय हो! 10वीं परीक्षा की 42 हजार आंसर शीट गायब, व्यवस्था पर उठे सवाल

author image
Updated on 21 Jun, 2018 at 6:40 pm

Advertisement

विवादों में रहने वाला बिहार बोर्ड फिर नए विवाद में फंस गया है। बिहार बोर्ड के 10वीं के नतीजे 20 जून को घोषित होने वाले थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ, अब बोर्ड ने 26 जून को रिजल्ट जारी करने का फैसला किया है।

 

ऐसा इसलिए क्योंकि पटना के गोपालगंज में 10वीं परीक्षा की करीबन 42 हजार से ज्यादा आंसर शीट गायब हो गई हैं। मामला गोपालगंज जिले के एसएस गर्ल्स सीनियर सेंकडरी स्कूल का है। स्कूल के स्ट्रांग रूम से परीक्षा की कॉपी से भरे 213 बैग गायब हुए हैं। एक बैग में 200 छात्रों की आंसर शीट होती हैं।

 

 

यह मामला तब सामने आया जब बिहार स्कूल परीक्षा बोर्ड (BSEB) के अधिकारी दो टॉप रैंक होल्डर के वेरिफिकेशन के लिए आंसशीट कलेक्ट करने स्कूल पहुंचे, लेकिन उन्हें वहां आंसरशीट नहीं मिली।

 

 

इस पूरे मामले में स्कूल के प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उनसे पूछताछ के बाद आगे की कारवाई की जाएगी। उधर प्रिंसिपल ने बताया कि BSEB अधिकारियों से सूचना मिलने के बाद उन्होंने खुद पुलिस स्टेशन जाकर इस धांधली की सूचना दी थी।


Advertisement

 

अपनी एफआईआर में पीके श्रीवास्तव ने कहा है कि स्ट्रॉन्ग रूम में कड़ी सुरक्षा के बावजूद ऐसा हुआ, जबकि प्रिंसिपल के अलावा रूम की चाबी सिर्फ केयरटेकर के पास होती है।

 

प्रिंसिपल प्रमोद कुमार श्रीवास्तव source

 

हालांकि, BSEB के अध्यक्ष आनंद किशोर ने इस पूरे मसले पर कहा है कि इससे परीक्षा में बैठे छात्रों को कोई नुकसान नहीं होगा। उन्होंने बताया कि गायब आंसरशीट्स में दर्ज अंक पहले ही बोर्ड को प्राप्त हो गए थे। इसलिए मैट्रिक परीक्षा 2018 के परिणाम और इस परीक्षा में टॉप करने वालों की सूची पर इसका कोई असर नहीं पड़ेगा।

 

 

BSEB के अध्यक्ष आनंद ने आगे बताया कि इस मामले में गोपालगंज के जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक को गायब आंसरशीट्स को बरामद करने और जांच कर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किए जाने का निर्देश दिया गया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement