दुनिया भर में भूविज्ञानियों के आकर्षण का केन्द्र हैं बेलम गुफाएं

author image
Updated on 8 May, 2017 at 8:12 pm

Advertisement

आन्ध्र प्रदेश में मौजूद बेलम गुफाएं दुनिया भर में भूविज्ञानियों के आकर्षण का केन्द्र हैं। विशेषज्ञ मानते हैं कि ये भारतीय उपमहाद्वीप की दूसरी सबसे बड़ी प्राकृतिक गुफाएं हैं।

इस गुफा की खोज की थी वर्ष 1854 में एच.बी. फुटे नामक एक भूविज्ञानी ने की थी। हालांकि इसके मौजूदा स्वरूप का पता वर्ष 1982 में ही लग सका था।

अजीब हैं बेलम गुफाएं


Advertisement

गुफाएं आम तौर पर पहा़ड़ों में होते हैं, लेकिन बेलम गुफाओं की खासियत है कि यह एक बड़े से सपाट खेत के नीचे स्थित है। इसके अंदर जाने के तीन प्रवेश द्वार हैं, जिनका आकार कुएं के छेद जितना है। लगभग बीस मीटर तक सीधे नीचे उतरने के बाद गुफा जमीन के नीचे फैल जाती हैं। इन गुफाओं की लम्बाई 3229 मीटर है।

गुफा में हैं पानी के सोते

बेलम की गुफाएं खास हैं। इसके अंदर ताजे पानी के बहते हुए कई सोते हैं। यह प्रकृति की करामात ही है, जो बेहद अनूठा है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement