बांग्लादेश बना रहा है दुनिया का सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर, संयुक्त राष्ट्र ने दी महामारी की चेतावनी

Updated on 8 Oct, 2017 at 12:21 pm

Advertisement

बांग्लादेश दुनिया का सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर बनाने जा रहा है, जहां रोहिंग्या मुसलमानों को जगह दी जाएगी।

म्यामांर में जारी जातीय हिंसा से बचकर भागने वाले करीब चार लाख रोहिंग्या मुसलमानों को कॉक्स बाजार में स्थित 2 हजार एकड़ की जमीन पर बसाया गया है।

हालांकि, यहां दिन ब दिन शरणार्थियों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। हजारों शरणार्थी अब भी सीमा पर इन्तजार कर रहे हैं। और माना जा रहा है कि बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमानों की संख्या 8 से 9 लाख पार कर जाएगी। यही वजह है कि अब रोहिंग्या शरणार्थियों के लिए कुतुपलोंग में सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर बनाया जा रहा है।

बांग्लादेश के आपदा प्रबंधन एवं राहत मंत्री मोफज्जल हुसैन चौधरी माया ने कहाः

“अनुमानित तौर पर आठ से नौ लाख शरणार्थियों को इलाके में स्थित रोहिंग्याओं के सबसे बड़े शिविर कुतुपलोंग के किनारे एक नए शिविर में भेजा जाएगा।”


Advertisement

यह नया शिविर करीब 1 हजार एकड़ क्षेत्र में बनाया जा रहा है। नए परिवारों को पहले ही नए स्थल पर भेजा जा रहा है है और जो छिटपुट जगहों पर रह रहे हैं उन्हें एक जगह पर लाया जाएगा। शरणार्थियों के इस शिविर को बांग्लादेश की सेना के नेतृत्व में बनाया जा रहा है।



संयुक्त राष्ट्र ने दी महामारी की चेतावनी

बांग्लादेश में रोहिंग्या मुसलमानों की लगातार बढ़ रही संख्या पर अब संयुक्त राष्ट्र ने महामारी फैलने की चेतावनी जारी की है। बांग्लादेश में एक साथ बड़ी संख्या में रोहिंग्या शरणार्थियों के आने की वजह से बीमारी का खतरा मंडरा रहा है। खास तौर पर शिविर में साफ पानी और शौचालय की कमी से महामारी फैल सकती है।

ढाका में मौजूद संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारी रॉबर्ट वाटकिन्स कहते हैंः

“बांग्लादेश को शिविर के लिए नए स्थान तलाशने चाहिए। जब आप एक छोटी सी जगह में बहुत सारे लोगों को रखते हैं तो समस्या होती है। ये लोग बीमारी के शिकार हो सकते हैं और यह बेहद खतरनाक है। संक्रामक रोग होने की स्थिति में यह तेजी से फैलेगा। अलग-अलग कैम्पों में शरणार्थियों के होने से उनका प्रबंधन आसानी से किया जा सकता है।”

अब तक दुनिया का सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर युगांडा के बीडी बीडी व केन्या के ददाब में है। इन दोनों शिविरों में क्रमशः तीन-तीन लाख शरणार्थी रह रहे हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement