यह मां हाथ में बन्दूक थाम करती है महिलाओं की रक्षा, अपराधियों के लिए खौफ का दूसरा नाम

author image
5:50 pm 17 Nov, 2016

Advertisement

17  साल पहले अपने पति को खो चुकी शाहना बेगम महिलाओं की सुरक्षा के लिए हाथ में बन्दूक ताने, उनकी ढाल बनकर खड़ी हैं। शाहजहांपुर की रहने वाली 42 वर्षीय शाहना उन लड़कों के लिए खौफ का दूसरा नाम है जो महिलाओं पर बुरी नजर ड़ालते हैं।

lady

Cover Asia Press/Faisal Magray

चार बच्चों की मां शाहना एक स्रोत से बात करते हुए कहती हैंः

“बंदूक ही अब मेरा दूसरा पति है। मेरे इलाके में किसी भी पुरुष की महिलाओं को छेड़ने की हिम्मत नहीं होती, उन्हें मेरा खौफ है। उन्हें पता है कि अगर उन्होंने ऐसा किया तो मैं उन्हें गोली से उड़ा दूंगी। मैं इलाके की महिलाओं को अपनी बेटी मानती हूं और हर मां की जिम्मेदारी होती है कि वह अपने बच्चों की रक्षा करें।”

इलाके की महिलाओं को कोई भी परेशानी होती है तो वे शाहना के पास आती हैं। घरेलू हिंसा का शिकार हुई महिलाएं इन्साफ के लिए सबसे पहले शाहना का दरवाजा खटखटाती है।

lady

Cover Asia Press/Faisal Magray

‘बंदूक वाली चाची’ के नाम से जानी जाने वाली शाहना महिलाओं को इन्साफ दिलाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा देती हैं।


Advertisement

2013 में एक लड़की की आबरू के साथ तीन आदमियों ने खिलवाड़ किया था। उस लड़की को इन्साफ दिलाने के लिए शाहना ने अपना दिन-रात एक कर दिया और सभी अपराधियों को पुलिस के हवाले करवाया।

आपके विचार


  • Advertisement