Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

असम में दो से ज्यादा बच्चे पैदा करने पर जाएगी सरकारी नौकरी, बनेगी नई जनसंख्या नीति

Published on 10 December, 2016 at 10:25 pm By

असम सरकार जनसंख्या नियंत्रण पर एक विधेयक लाने की योजना बना रही है। इस विधेयक के अस्तित्व में आने के बाद दो से अधिक बच्चे पैदा करने पर सरकारी नौकरी से हाथ धोना पड़ेगा। साथ ही जिन लोगों के दो से अधिक बच्चे होंगे, वे सरकारी नौकरी के लिए अयोग्य होंगे। यही नहीं, दो से अधिक बच्चों के पिता या माता स्थानीय स्तर पर चुनाव नहीं लड़ सकेंगे।


Advertisement

नॉर्थईस्ट टुडे की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि असम में भारतीय जनता पार्टी की सरकार अपनी योजना को मूर्त रूप देने की योजना बना रही है। अगले वर्ष मार्च में विधानसभा में जनसंख्या नियंत्रण संबंधी विधेयक का मसौदा पेश किया जाएगा, जिसमें एक परिवार में दो बच्चों की सीमा तय की जाएगी। दो से अधिक बच्चों वाले उम्मीदवारों की नगरपालिका चुनावों के लिए उम्मीदवारी रद्द कर दी जाएगी।

शुक्रवार को एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए असम सरकार में मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कहाः

“हम लंबे समय से एक नई जनसंख्या नीति लाने की योजना बनाते रहे हैं। इसके लिए सरकार ने एक कमेटी का गठन किया है, जो इस नीति की ड्राफ्टिंग कर रही है।”

जनसंख्या नीति के प्रमुख बिन्दुओं पर बात करते हुए असम सरकार में नंबर दो की हैसियत रखने वाले शर्मा ने कहाः



“अगर कोई व्यक्ति असम सरकार की नौकरी चाहता है तो उस व्यक्ति के दो बच्चों से अधिक नहीं होना चाहिए। जब यह नीति लागू हो जाएगी तब जो लोग सरकारी नौकरी में हैं, वे तीसरे बच्चे के लिए नहीं जा सकते। नौकरी पर रहने वाले कर्मचारी के दो से अधिक बच्चे होंगे तो उसकी नौकरी चली जाएगी। जिन कर्मचारियों के पहले से दो से अधिक बच्चे हैं, उन्हें नौकरी के मामले में रियायत दी जाएगी।”

बताया गया है कि राज्य सरकार की जनसंख्या नियंत्रण नीति को माध्यमिक स्तर के विद्यालयों में पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा।


Advertisement

गौरतलब है कि पिछले दिनों हिमन्त विश्व शर्मा ने कहा था कि असम के 11 जिलों में मुस्लिम आबादी ने स्थानीय असमिया लोगों को पीछे छोड़ दिया है। उन्होंने साफ तौर पर कहा था कि असम की बदलती जनसांख्यिकी स्थानीय लोगों के लिए खतरा है।

assamese


Advertisement

शर्मा ने बांग्लादेश आ रहे शरणार्थी हिन्दुओं को भारत की नागरिकता देने की वकालत की थी, ताकि राज्य में हिन्दुओं की आबादी को बढ़ाया जा सके। इससे पहले हिमन्त विश्व शर्मा ने राज्य के सभी मदरसों में शुक्रवार की बजाय रविवार को छुट्टी अनिवार्य कर दी थी।

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें News

नेट पर पॉप्युलर