“भारत है एशिया की निर्णायक शक्ति, इस महाद्वीप को जहां झुकाना चाहे, झुका सकती है”

author image
Updated on 28 Aug, 2016 at 3:43 pm

Advertisement

केन्द्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने भारत को “एशिया की निर्णायक शक्ति” बताते हुए कहा कि भारत में क्षमता है कि वह इस महाद्वीप को जिस तरफ झुकाना चाहता है यह उसी तरफ झुक जाएगा।

उन्होंने कहा:

“मैं हमारे मुल्क को एशिया में एक निर्णायक शक्ति मानता हूं। हम एक ऐसी निर्णायक शक्ति है कि जिस तरफ हम इस महाद्वीप को झुकाएंगे, यह उसी तरफ झुकेगा। इसमें हमारी जो भूमिका है, उससे न तो यह महाद्वीप और न ही दुनिया नजर अंदाज कर सकती है।”

MJ Akbar

केन्द्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर

पत्रकार से राजनेता बने अकबर ने कहा कि एक तरफ जहां भारत के कई पश्चिमी देश किसी न किसी तरह से जंग या आतंकवाद से जूझ रहे हैं, वहीं हमारे पूर्व में चीन, जापान, ताईवान जैसे मुल्क अपने देश की आर्थिक तरक्की चाहते हैं और आज विकास के रास्ते पर हैं।


Advertisement

अकबर ने जोर देते हुए कहा कि दुनियाभर में बढ़ते आतंकवाद को रोकने में भारत की भूमिका महत्वपूर्ण है, जो कि दुनिया के हित में भी होगा।

अकबर के मुताबिक, किसी भी समस्या का समाधान युद्ध नहीं हो सकता, यह भी एक तथ्य है कि जिस भी मुल्क ने युद्ध शुरू किया है, उसे कभी जीत हासिल नहीं हुई है।



MJ Akbar

साथ ही अकबर ने देश के लिए गरीबी को ख़त्म करना एक चुनौती बताया और मोदी के एक भाषण को याद किया जिसमें मोदी ने कहा था कि गरीबी का युग अब समाप्त हो गया है, आजादी के 70 साल बाद गरीबी विलोपन शुरू हो गया है।

उन्होंने कहा कि पहले 70 फीसदी लोग गरीबी रेखा से नीचे थे, लेकिन पिछले सात दशकों में यह आंकड़ा 35 फीसदी तक नीचे आ गया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ‘लुक ईस्ट’ नीति की प्रशंसा करते हुए विदेश राज्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने हमारी नीति को यह निर्णायक मोड़ दिया, क्योंकि पूर्व के सभी देश आज तरक्की कर रहे हैं। इसलिये हमें भी इस तरक्की में उनके साथ शामिल होना होगा।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement