अश्विन के सबसे तेज 300 टेस्ट विकेट लेने के साथ जुड़ा है एक दुर्लभ संयोग

Updated on 30 Nov, 2017 at 12:30 pm

Advertisement
क्रिकेट में रिकॉर्ड टूटते-बनते रहते हैं और यही इस खेल को रोमांचक बनाए रखता है। लेकिन कभी-कभी ऐसे रिकॉर्ड बन जाते हैं जो दुर्लभ होते हैं। ये महज एक संयोग की बात होती है कि जब किसी रिकॉर्ड को बनने में कोई ख़ास वाकया जुड़ जाता है। पिछले 27 नवंबर को अश्विन के बनाए रिकॉर्ड के साथ भी कुछ अलग वाकया हो गया।

गौरतलब है कि टीम इंडिया के स्टार ऑफस्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने दूसरे टेस्ट के चौथे दिन श्रीलंका के लहिरू गमागे को क्लीन बोल्ड करते ही वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया।

 

इससे पहले यह रिकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के पूर्व महान तेज गेंदबाज डेनिस लिली के नाम था।

sportskeeda


Advertisement

इस रिकॉर्ड के साथ ही एक विशेष संयोग भी जुड़ गया। अश्विन ने सबसे तेज 300  टेस्ट विकेट लेने वाले विश्व के प्रथम गेंदबाज बनकर देश का नाम रौशन किया है।

 

अश्विन ने अपने टेस्ट करियर के 54वें टेस्ट में यह रिकॉर्ड बनाया। वहीं लिली ने पांच दिन के क्रिकेट में 300 शिकार करने के लिए 56 मैच खेले थे।



 

36 साल पुराने इस रिकॉर्ड को तोड़ते हुए एक खास बात हुई और वो ये थी कि डेनिस लिली ने भी अपना 300वां विकेट 27 नवंबर 1981 को ही लिया था और अश्विन ने भी अपना 300वां शिकार इसी तारीख को लिया और साथ ही लिली के इस रिकॉर्ड को पीछे भी छोड़ दिया।

 

उधर, लिली के बाद मुथैया मुरलीधरन तीसरे स्थान पर काबिज हैं। बता दें कि मुरली ने अपने 58वें टेस्ट में इस मुकाम को हासिल किया था।


Advertisement
इस रिकॉर्ड के साथ एक और ख़ास बात ये है कि लिस्ट में चौथे स्थान पर तीन गेंदबाज संयुक्त रूप से काबिज हैं। न्यूजीलैंड के रिचर्ड हेडली, वेस्टइंडीज के मालकॉम मार्शल और दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाज डेल स्टेन ने अपने टेस्ट करियर के 61वें टेस्ट में इस मुकाम को छुआ था। जबकि पांचवें स्थान पर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न और दक्षिण अफ्रीका के पूर्व तेज गेंदबाज एलन डोनाल्ड का नाम दर्ज हैं।

आपके विचार


  • Advertisement