अर्जुन पांडेय ने अंतरराष्ट्रीय मंच पर स्थापित की है अपनी पहचान

author image
Updated on 31 May, 2017 at 6:40 pm

Advertisement

वित्तचित्र निर्माण के क्षेत्र में अर्जुन पांडेय एक जाना-माना नाम है। वह राष्ट्रपति द्वारा 2 भारतीय राष्ट्रीय पुरस्कार, 11 अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार और कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित व्यक्ति हैं। उन्हें आईआईएम-बैंगलोर और ब्रिटिश काउंसिल द्वारा भारत के शीर्ष क्रिएटिव फ्यूचर में से एक घोषित किया गया था। पांडेय जर्मनी के बुसेरियस समर स्कूल में ‘यंग ग्लोबल लीडर’ के रूप में अपने विचार रख चुके हैं। वह इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले केवल 20 भारतीयों में से एक है।

अर्जुन दिल्ली पीडिया के संस्थापक हैं। दिल्ली पीडिया दिल्ली के लिए अनुभवी गाइड का कार्य करती है। उनका लक्ष्य दिल्ली पीडिया को भारतवर्ष में फैलाना है।

DSC


Advertisement

37 वर्ष के अर्जुन पिछले 20 सालों से अनवरत काम कर रहे हैं। उन्होंने 17 साल पहले 24 फ्रेम्स प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना की थी। इस दौरान उन्होंने 7 ऐसे परियोजनाओं पर काम किया है, जिनसे भारतीय कानून में सराहनीय बदलाव हुए हैं। वह वन्यजीव, पर्यावरण सुरक्षा और स्वास्थ्य पर कई परियोजनाओं के साथ सक्रिय रूप से जुड़े रहे हैं।

अर्जुन की फिल्में वैश्विक स्तर पर 170 से अधिक देशों में बीबीसी द्वारा प्रसारित हुई। साथ ही अल जजीरा से लेकर दूरदर्शन और एनडीटीवी पर भी उनका प्रसारण हुआ है।

निर्देशन, प्रॉडक्शन और डॉक्युमेन्ट्री फिल्मों में निवेश के अलावा टेलीविजन और नए मीडिया सामग्री उत्पादन, सूचना और प्रसारण मंत्रालय के मंत्रालय सहित विभिन्न सरकारी कमेटी जिसमे आईएफएफआई-अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, गोवा (तकनीकी समिति) फिल्म समारोहों की शताब्दी सलाहकार समिति के लिए अर्जुन को आमंत्रित किया गया। सीआईआई (भारतीय उद्योग परिसंघ) और वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के लिए वह वर्तमान में सेवाओं की वैश्विक प्रदर्शनी (www.gesdelhi.in) के भाग के रूप में मीडिया और मनोरंजन बाज़ार को बढ़ाना चाहते हैं। वे भारत सरकार (2016-2018), और सीआईआई के लिए मीडिया और मनोरंजन पर राष्ट्रीय समिति के सदस्य हैं।

अर्जुन स्वयंसेवकों के लाइव टू लव इंडिया (LivetoLove.org) एनजीओ के प्रमुख के रूप में कार्यरत हैं, जिसने लद्दाख में दस लाख से अधिक वृक्ष लगाए गए हैं। यह संस्था महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए व्यापक शिक्षा के क्षेत्र में भी काम करती है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement