एप्पल मैनेजर के शूटआउट मामले में चश्मदीद महिला ने किया बड़ा खुलासा, कहा उस रात पुलिस ने…

Updated on 30 Sep, 2018 at 2:50 pm

Advertisement

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के वीआईपी इलाके गोमती नगर में चेकिंग के दौरान गाड़ी नहीं रोकने पर पुलिस कॉन्स्टेबल ने एप्पल कंपनी के एरिया सेल्स मैनेजर विवेक तिवारी की गोली मारकर हत्या कर दी। यूपी का ये मामला सामने आते ही प्रदेश में एक भूचाल सा आ गया है। इस घटना ने यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर एक बार फिर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है। पूरे मामले पर मृतक की पत्नी और उसके परिवार वालों ने पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए है।

 

 


Advertisement

इस वारदात की एकमात्र चश्मदीद गवाह सना खान ने पूरे हत्याकांड का भयावह सच उजागर किया है।

सना ने बताया कि वह रात को अपने सहयोगी विवेक तिवारी के साथ घर जा रही थीं। उनकी गाड़ी लखनऊ के गोमती नगर इलाके में खड़ी हुई थी। इस बीच 2 पुलिसवाले वहां पहुंचे। विवेक ने गाड़़ी भगाकर उनसे बचने की कोशिश की लेकिन इसके बाद अचानक गोली चली और विवेक की गाड़ी अंडरपास से टकरा गई। खून से लथपथ विवेक को कुछ देर बाद अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसकी मौत हो गई।

 

 

इस मामले में अब मृतक के परिवार वालों ने राज्य सरकार से मुआवजे की मांग की है। पीड़ित की पत्नी ने मुआवजे के तौर पर 1 करोड़़ रुपये और पुलिस विभाग में नौकरी मांगी है। उधर प्रशासन पीड़ित परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवज़ा और सरकारी नौकरी देने के लिए राज़ी हो गया है। साथ ही प्रशासन ने पूरे मामले की जांच 30 दिनों के अंदर कराने का आश्वासन भी दिया है।



 

 

वहीं यूपी शूटआउट मामले में आरोपी पुलिस कॉन्सटेबल का कहना है कि रात 2 बजे उसने एक संदिग्ध कार को देखा जिसकी लाइट बंद थी। कॉन्सटेबल के मुताबिक जब वह कार के नज़दीक पहुंचा तो ड्राइवर ने उसपर कार चढ़ाने की कोशिश कर उसे मारने का प्रयास किया। ऐसे में आत्मरक्षा के लिए उसे गोली चलानी पड़ी।

 

 

बताया जा रहा है कि अब सोमवार से एसआईटी एप्पल मैनेजर शूटआउट मामले की जांच करेगी और जल्द अपनी रिपोर्ट सौंपेगी।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement