प्रकाश राज गुस्से में जरूर हैं, लेकिन अपना राष्ट्रीय पुरस्कार नहीं लौटाएंगे

Updated on 3 Oct, 2017 at 11:42 am

Advertisement

लोकप्रिय अभिनेता प्रकाश राज गुस्से में हैं। वरिष्ठ पत्रकार व समाजिक कार्यकर्ता गौरी लंकेश पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कथित चुप्पी की उन्होंने आलोचना की है।

प्रकाश राज ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर भी निशाना साधा है।

प्रकाश राज ने कहाः

“जब आप आदित्यनाथ के बयानों को सुनते हैं, तब आप यह नहीं समझ पाते कि वह एक मुख्यमंत्री हैं या एक पुजारी हैं। उन्होंने व्यंग्यात्मक भावना से कहा, “आदित्यनाथ मुझसे भी अच्छा अभिनेता है। मैं सोच रहा हूं कि मुझे अपने सारे राष्ट्रीय पुरस्कार उन्हें दे देने चाहिए।”

इससे पहले प्रकाश राज ने मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की युवा शाखा डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (डीवाईएफआइ) के 11वें राज्य सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में केन्द्र सरकार पर हमला किया था।


Advertisement

सम्मेलन का उद्घाटन करने के बाद प्रकाश राज ने कहाः

“मैं कहना चाहता हूं कि यह सवाल महत्वपूर्ण नहीं है कि किसने उनकी हत्या की। लेकिन यह सवाल है कि कौन ट्विटर पर उत्सव मना रहे हैं। जो लोग खुश हैं उन्हें आसानी से पहचाना जा सकता है। हत्या का कोई सुबूत नहीं मिल सकता है, लेकिन अन्य चीजें तो देखी जानी चाहिए।”

“प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मुझसे बड़े एक्टर”

‘मैं एक नामी ऐक्टर हूं लेकिन ऐसा लगता है कि मैं आपकी ऐक्टिंग को नहीं पहचान सकूंगा?’ पीएम को मैं खुद से बड़ा एक्टर मानता हूं।



राष्ट्रीय पुरस्कार लौटाने की बात से मुकर गए प्रकाश राज

गुस्से और जोश में सार्वजनिक मंच से पुरस्कार लौटाने का दावा करने वाले प्रकाश राज अब इससे मुकर गए हैं। उन्होंने इस तरह की खबरों का खंडन किया है। उन्होंने कहा है कि वह मूर्ख नहीं हैं कि राष्ट्रीय पुरस्कार लौटा दें।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement