Topyaps Logo

Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo Topyaps Logo

Topyaps menu

Responsive image

आंध्र प्रदेश का यह राजनीतिज्ञ नेता है या बहुरूपिया? आप खुद तय करिए

Published on 3 April, 2018 at 6:11 pm By

लोकतंत्र में विरोध करने का चलन आम है। यह अलग बात है कि आजकल विरोध करने वालों को कोई ख़ास तवज्जो नहीं मिल पाती है। लिहाजा जनता तो जनता, नेता भी विरोध करते नजर आ रहे हैं। संसद से सड़क तक विरोध करते हुए लोग मिल जाएंगे। विरोध के कारण अलग-अलग हो सकते हैं, लेकिन विरोध का तरीका वही घिसा-पिटा रहता है। फिलहाल हम चर्चा करने जा रहे हैं, आंध्र प्रदेश के राजनीतिज्ञ की जिन्होंने विरोध प्रदर्शन को भी एक कला का रूप दे दिया है। उनकी चर्चा हो रही है।

चित्तूर से सांसद एन. शिवप्रसाद कुछ इस प्रकार विरोध करते हैं!


Advertisement

 

 

द्वापर में भगवान कृष्ण अपनी लीलाओं के लिए जाने जाते थे, लेकिन इस घोर कलियुग में नेताओं के आगे भी संभवतः घुटने टेक देते। हमारे देश में नेताओं की लीला अपरम्पार है। यह चुनाव के समय विशेष रूप से देखने को मिलता है लेकिन सांसद एन. शिवप्रसाद की लीला इससे जुदा है।

शिवप्रसाद तेलुगू देशम पार्टी से सांसद हैं और विरोध के अपने ख़ास तरीके की वजह से लाइम-लाईट में हैं।

यहां देखिए कि कैसे ये नारद बने हुए हैं!


Advertisement

 



 

ये पहले भी राजा हरिश्चंद्र, महिला, एक बच्चा और नारद मुनि बनकर विरोध कर चुके हैं। दिलचस्प बात यह है कि ये तर्कपूर्ण रूप से वेश धारण करते हैं। जब एक महिला का वेश धारण किया था, तब वह आंध्र की महिलाओं के अधिकारों के लिए प्रदर्शन कर रहे थे। ऐसे ही हरिश्चंद्र बनकर वे बता रहे थे कि मोदी और हरिश्चंद्र दोनों वाराणसी से आते हैं और हरिश्चंद्र ने अपना वादा पूरा किया था।

 

बता दें कि शिवप्रसाद एक डॉक्टर हैं और इससे पहले फिल्मों में भी भाग्य आजमा चुके हैं। लिहाजा विभिन्न वेश धारण करने में उन्हें कोई झिझक नहीं होती है। आंध्र प्रदेश से तेलंगाना के अलग होने बाद से बदले हालात में शिवप्रसाद राज्य सरकार का भरपूर सहयोग करते हैं।

 

 

असल में कभी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सहयोगी रही तेलुगू देशम पार्टी आंध्र प्रदेश के लिए केंद्र सरकार से विशेष राज्य का दर्जा मांग रही है। इतना ही नहीं, टीडीपी द्वारा पोलावरम परियोजना के लिए 58,000 करोड़ रुपए का फ़ंड तथा अमरावती के विकास के लिए पर्याप्त बजट को सुनिश्चित करने की वकालत की जा रही है। उनका ये भी कहना है कि राज्य विधानसभा की सीटें 175 से बढ़ाकर 225 की जानी चाहिए।

 


Advertisement

अब मागें मानना या न मानना तो केंद्र सरकार का काम है। हम तो कला के कद्रदान हैं। शिवप्रसाद ऐसे ही एंटरटेन करते रहें, क्या पता एक दिन सरकार मान भी जाए!

Advertisement

नई कहानियां

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!

Sapna Choudhary Songs: सपना चौधरी के ये गाने किसी को भी थिरकने पर मजबूर कर दें!


जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका

जानिए कैसे डाउनलोड करें YouTube वीडियो, ये है आसान तरीका


प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें

प्रधानमंत्री आवास योजना से पूरा होगा ख़ुद के घर का सपना, जानिए इससे जुड़ी अहम बातें


ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं

ब्रह्माजी को क्यों नहीं पूजा जाता है? एक गलती की सज़ा वो आज तक भुगत रहे हैं


Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं

Hindi Comedy Movies: बॉलीवुड की ये सदाबहार कॉमेडी फ़िल्में, आज भी लोगों को गुदगुदाने का माद्दा रखती हैं


Advertisement

ज़्यादा खोजी गई

टॉप पोस्ट

और पढ़ें India

नेट पर पॉप्युलर