विज्ञान के क्षेत्र में नोबेल जीतने वाले सभी अमेरिकी दरअसल अप्रवासी हैं

author image
Updated on 14 Oct, 2016 at 4:42 pm

Advertisement

जहां एक तरफ अमेरिकी राष्ट्रपति पद के रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्‍ड ट्रंप अमेरिका में अवैध रूप से रह रहे लाखों अप्रवासियों को अमेरिका से बाहर निकाल देने की बात कर रहे है। वहीं, अमेरिका से जो खबर आई है, वह डोनाल्ड ट्रम्प को बेचैन जरूर कर सकती है।

इस साल विज्ञान के क्षेत्र में सभी 6 नोबेल पुरस्कार विजेता अमेरिकी दरअसल अप्रवासी हैं।

तीन वैज्ञानिकों डेविड थूल्स, डंकन हाल्डेन और माइकल कोस्टरलिट्ज को तत्व के विविध रूपों से जुड़ी खोज के लिए भौतिक विज्ञान में साल 2016 का नोबेल पुरस्कर से नवाजा गया है। मूल रूप से ये तीनों वैज्ञानिक ब्रिटन से ताल्लुक रखते हैं।

हाल्डेन न्यूजर्सी की प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी में भौतिकी प्रोफेसर 65 वर्षीय हाल्डेन कहते हैं कि अमेरिका अपने रिसर्च के अनुकूल धन प्रणाली की वजह से कई प्रतिभाओं को आकर्षित करता है।

वहीं 82 वर्षीय डेविड थूल्स यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंग्टन से सेवामुक्त हो चुके हैं। तो 73 वर्षीय माइकल कोस्टरलिट्ज ब्राउन यूनिवर्सिटी में भौतिकी के प्रोफेसर हैं।

उधर, फ्रांस के ज्यां-पियरे सोवेज, ब्रिटेन के जे फ्रैसर स्टाडर्ट और नीदरलैंड के बर्नार्ड फेरिंगा को इस साल के रसायन विज्ञान के नोबेल से सम्‍मानित किया गया है। इन तीनों ने आणविक मशीनों के विकास के लिए रसायन विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीता है।

अमेरिकी नीति के नेशनल फाउंडेशन के स्टुअर्ट एंडरसन के मुताबिक, 2000 से रसायन विज्ञान, चिकित्सा और भौतिकी के क्षेत्र में अमेरिकियों द्वारा जीते गए 78 नोबेल पुरस्कार में 40 प्रतिशत प्रवासियों ने जीते है जो कि मूल रूप से जापान, कनाडा, तुर्की, ऑस्ट्रिया, चीन, इजराइल, दक्षिण अफ्रीका और जर्मनी से आते हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement