तनाव के बावजूद अमरनाथ यात्रा पर निकले श्रद्धालु, पहला जत्था जम्मू से रवाना

Updated on 28 Jun, 2017 at 11:49 am

Advertisement

बाबा अमरनाथ के दर्शन के लिए यात्री विदा हो गए हैं। जम्मू कैम्प से पहला जत्था यात्रा शुरू कर चुकी है। जम्मू-कश्मीर के उपमुख्यमंत्री निर्मल सिंह के नेतृत्व में कड़ी सुरक्षा के साथ जत्था रवाना हुआ है।

यात्रा जोखिम भरा है। आतंकवादी हमले कई संभावना बनी हुई है। प्रशासन ने सैटेलाइट ट्रैकिंग सिस्टम शामिल करने के साथ ही उच्चतम स्तर कई सुरक्षा उपलब्ध कराई है। यह सालाना यात्रा गुरुवार से शुरू हो रही है।


Advertisement

ज्ञात हो कि यह 40 दिन लंबी तीर्थयात्रा जम्मू से होकर अमरनाथ कई पवित्र गुफा तक जाएगी। जम्मू से गुफा की दूरी 200 किलोमीटर है। अमरनाथ की पवित्र गुफा दक्षिणी कश्मीर के पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है। इस यात्रा के लिए 2.30 लाख यात्रियों ने पंजीकरण कराया है।

पुलिस महानिरीक्षक मुनीर खान ने सेना, सीआरपीएफ और राज्य के कई डीआईजी को पत्र लिखकर अलर्ट किया है। उनके अनुसार एसएसपी अनंतनाग से मिले खुफिया इनपुट है कि आतंकवादियों को 100 से 150 श्रद्धालुओं और करीब 100 पुलिस अधिकारियों की हत्या करने को कहा गया है।

उन्होंने कहाः ‘इनपुट को एचयूएमआईएनटी (हयूमन इंटेलिजेंस) के तौर पर देखा गया है। आगे इसकी पुष्टि की जरूरत है।’ साथ ही उनका कहना है कि इस स्तर पर किसी आतंकवादी संगठन द्वारा हमले की संभावना को खारिज नहीं किया जा सकता है।

इस पत्र को सोशल मीडिया पर भी शेयर किया जा रहा है जो लोगों के बीच आतंक फैलाने का काम कर सकता है। लोगों में घबराहट पैदा करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। पुलिस, सेना, बीएसएफ और सीआरपीएफ को मिलाकर यहां 35 हजार से 40 हजार सुरक्षाबलों को तैनात किया गया है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement