मंदी के बावजूद दुनियाभर में बढ़ रही है करोड़पतियों की संख्या

Updated on 30 Sep, 2017 at 4:14 pm

Advertisement

दुनियाभर में करोड़पतियों की संख्या तेजी से बढ़ी है। करोड़पतियों की संख्या में पिछले साल 8 प्रतिशत से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई है। इस रिपोर्ट को ग्‍लोबल कंसल्‍टेंसी एजेंसी कैप‍जेमिनी ने प्रकाशित किया है।

रिपोर्ट में करोड़पति उसे कहा गया है, जिसके पास निवेश लायक 10 लाख डॉलर या उससे अधिक की राशि हो।

रिपोर्ट की मानें तो करोड़पतियों की संख्‍या बढ़कर लगभग 16.5 लाख हो गई और इनके पास कुल मिलाकर रिकॉर्ड 63.5 लाख करोड़ डॉलर की सम्‍पत्ति है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले साल 11 हजार 500 नए लोग करोड़पति बने हैं। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 2025 तक करोड़पति लोगों की संपत्ति 100 लाख करोड़ डॉलर हो जाएगी। करोड़पतियों की लिस्‍ट में टॉप पर अमेरिका है। इसके बाद जापान, जर्मनी और चीन का स्थान आता हैं। इन चारों देशों में विश्व के दो-तिहाई करोड़पति रहते हैं। फ्रांस रियल एस्‍टेट रिकवरी के दम पर ब्रिटेन को पछाड़कर टॉप 5 देशों में जगह बना ली है तो स्‍वीडन ने सिंगापुर को मात दे दी है।

कैप‍जेमिनी की रिपोर्ट में भारत को लेकर कोई ख़ास बात नहीं की गई है, लेकिन पिछले दिनों एक रिपोर्ट ‘हुरुन इंडिया’ में कई महत्वपूर्ण तथ्य मिले हैं। उसके अनुसार पतंजलि के बालकृष्ण की संपत्ति एक साल में मुकेश अंबानी की तुलना में तीन गुना तेजी से बढ़ी है। हुरुन इंडिया के अनुसार बालकृष्ण की संपत्ति 173 प्रतिशत बढ़ गई है।

हुरुन इंडिया के लिस्ट में देश के 617 अमीरों को शामिल किया गया। इनकी कुल संपत्ति 4.29 लाख करोड़ रुपए है। यह रकम देश की जीडीपी के एक चौथाई के बराबर है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में एक हजार करोड़ रुपए से ज्यादा संपत्ति वाले लोग एक साल में दोगुने तेजी से बढ़े हैं।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement