मिलिए अग्नि-V को विकसित करने वाली ‘अग्नि कन्या’ डॉ. टेसी थॉमस से

author image
7:43 pm 7 Jan, 2017

Advertisement

भारत ने हाल ही में अग्नि V का सफल परीक्षण किया है। इसके तुरंत बाद अग्नि IV का भी सफल परीक्षण किया गया। अग्नि-V जहां 5 हजार किलोमीटर तक मार कर सकती है, वहीं वहीं अग्नि IV की रेंज 4 हजार किलोमीटर से अधिक है। इन दोनों मिसाइलों की जद में लगभग पूरा चीन आता है, साथ ही यूरोप के कई देश भी। ये दोनों मिसाइल परियोजनाएं भारत के पूर्व राष्ट्रपति और भारतीय मिसाइल कार्यक्रम को अग्रणी बनाने वाले डॉ. अब्दुल कलाम के ड्रीम प्रोजेक्ट्स में शुमार रहे हैं।

इन अहम परियोजनाओं की कमान दी गई थी एक महिला महिला वैज्ञानिक को, जिनका नाम है डॉ. टेसी थॉमस। आइए जानते हैं डॉ. टेसी थॉमस के बारे में।


Advertisement

डॉ. टेसी थॉमस का नाम पहली बार सुर्खियों में तब आया था, जब 20 अप्रैल 2012 को जब भारत ने पहली बार अग्नि V का सफल परीक्षण किया। वर्ष 1963 में केरल के अलपुझा में जन्मीं डॉ. टेसी ने त्रिशूर के गर्वमेंट इंजीनियरिंग कॉलेज से ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की। टेसी के घर के नजदीक ही रॉकेट लॉन्चिंग स्टेशन था और मिसाइल और रॉकेट के प्रति उनके लगाव की कहानी यहीं से शुरू होती है।

टेसी ने बाद के दिनों में पुणे में स्थित इंस्‍टीट्यूट ऑफ अरमामेंट टेक्‍नोलॉजी से एमटेक की पढ़ाई पूरी की। इस इंस्‍टीट्यूट को अब डिफेंस इंस्‍टीट्यूट ऑफ एडवांस्‍ड टेक्‍नोलॉजी के नाम से जानते हैं। टेसी ने यहां से गाइडेड मिसाइल में एमटेक की पढ़ाई की थी।

डॉ. अब्दुल कलाम को जहां भारत के ‘मिसाइल मैन’ के रूप में जाना जाता है, वहीं डॉ. टेसी थॉमस को मिसाइल वुमन कहा जाता है। वह डॉक्‍टर कलाम को अपना गुरू मानती हैं।

वर्ष 1988 से ही वह अग्नि मिसाइल प्रोग्राम के साथ जुड़ी हैं। उन्हें वर्ष 2009 में अग्नि V के बतौर परियोजना निदेशक जुड़ने का मौका मिला। डॉक्‍टर टेसी ने सभी अग्नि मिसाइलों के लिए गाइडेंस प्रोग्राम को डिजाइन किया है। डॉ. टेसी थॉमस के पति भारतीय नौसेना में अधिकारी के रूप में अपनी सेवाएं दे रहे हैं।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement