देश की ‘स्वर्ण बेटी’ की अंग्रेजी को लेकर AFI ने किया था ट्वीट, लोगों की फटकार के बाद मांगी माफी

author image
Updated on 14 Jul, 2018 at 6:01 pm

Advertisement

आज से पहले शायद ही आपने हिमा दास का नाम सुना होगा। इस 18 वर्षीय लड़की ने अपने अद्भुत कारनामे से देश का नाम रौशन कर दिखाया। फ़िनलैंड के टैम्पेयर शहर में 18 साल की हिमा दास जब रेसिंग ट्रैक पर पहुंची तो उसने कई रिकॉर्ड तोड़ डाले।

 

असम की रहने वाली वाली हिमा ने इतिहास रचते हुए हिमा ने आईएएएफ विश्व अंडर-20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर दौड़ स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीता है।

 

 

हिमा विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप की ट्रैक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनी। हिमा ने 400 मीटर की इस दौड़ को 51.46 सेकेंड में पूरा कर पहला स्थान हासिल किया।

 

हिमा से पहले आज तक कोई महिला खिलाड़ी जूनियर या सीनियर किसी विश्व चैम्पियनशिप में गोल्ड नहीं जीत सकी है।

 

 

हिमा की जीत पर देश की जानी-मानी हस्तियों की बधाइयों का तांता लगा हुआ है। लेकिन एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया यानि AFI ने हिमा दास को लेकर ऐसा ट्वीट कर दिया, जिसे लेकर बवाल मचा हुआ है। हिमा की जीत के बाद AFI ने ट्वीट कर लिखा-

 

“पहली जीत के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए हिमा की अंग्रेजी उतनी अच्छी नहीं थी, लेकिन उन्होंने अच्छी कोशिश की। हमें आप पर गर्व है।”

 

 

AFI द्वारा हिमा की अंग्रेजी पर की गई इस टिप्पणी को लोगों ने गलत बताया। AFI को हिमा को बधाई देने के लिए किए गए ​ट्वीट में एक चूक के कारण ट्रोल होना पड़ा।

लोगों ने कहा कि इस ट्वीट में हिमा की अंग्रेजी का मजाक उड़ाया गया है। लोगों ने ट्विटर पर जमकर AFI को निशाने पर लिया।

 

विवाद को बढ़ता देख अब अपने इस ट्वीट पर AFI ने सफाई भी दी है। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि उनका मकसद हिमा की अंग्रेजी का मजाक उड़ाना नहीं था। AFI की तरफ से ये ट्वीट किया गया-

 

महज 18 साल की हिमा ने जो कारनामा कर दिखाया है, वो काबिलेतारीफ है। उन्हें बधाई देने वाले लोगों का तांता लगा हुआ है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement