आधार डेटा में अमेरिकी खुफिया एजेंसी CIA ने लगाई सेंध!

Updated on 26 Aug, 2017 at 6:52 pm

Advertisement

आधार डेटा कितना सुरक्षित है, इस पर लंबे समय से बहस चलती रही है।

अब विकीलीक्स ने दावा किया है कि आधार डेटा में अमेरिकी खुफिया एजेन्सी CIA ने सेंध लगा दी है। विकीलीक्स के मुताबिक, इसके लिए CIA एक विशेष टूल का इस्तेमाल कर रही है।


Advertisement

हलांकि, इस रिपोर्ट में आधार से जुड़े सूत्रों के हवाले से इन दावों को खारिज कर दिया गया है। वैसे भी अगर इस बात में जरा भी सच्चाई है तो यह भारत सरकार और सुरक्षा एजेन्सियों की नींद हराम कर सकती है।

विकीलीक्स का कहना है कि इस खास टूल का को अमेरिकी कंपनी क्रॉस मैच टेक्नॉलजीज़ ने बनाया है। इससे साइबर जासूसी की जा सकती है। खास बात यह है कि क्रॉस मैच टेक्नॉलजीज़ वही कंपनी है जो आधार की नियामक संस्था यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) को बायोमीट्रिक तकनीक उपलब्ध कराती है। यही वजह है कि विकीलीक्स ने डेटा लीक का दावा इतने भरोसे के साथ किया है।

विकीलीक्स ने शुक्रवार को ट्वीट करके एक आर्टिकल शेयर किया, जिसमें पूछा गया है कि ‘क्या सीआईए के जासूस भारत के राष्ट्रीय पहचान डेटाबेस को चुरा चुके हैं?’

कुछ देर बाद, एक अन्य ट्वीट में लिखा, ‘आधार जासूसों के हाथ में?’

हालांकि, आधिकारिक सूत्रों ने इस दावे को सिरे से नकार दिया है। कहा गया है कि यह एक वेबसाइट की रिपोर्ट है और इसे लीक नहीं कहा जा सकता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement