किसी नशे से कम नहीं है इन 8 चीज़ों की आदत !

Updated on 14 Nov, 2017 at 10:16 am

Advertisement

एडिक्शन यानी नशे का मतलब होता है वो स्थिति जिसमें आपको किसी काम की आदत लग जाती है और उसे करने में आपको बहुत मज़ा आता है। आपको उस चीज़ की इतनी लत हो जाती है कि आप चाहकर भी उससे बाहर नहीं निकल पाते और आगे चलकर ये स्थिति आपके लिए नुकसानदेह साबित हो सकती है। नशे का मतलब सिर्फ शराब, सिगरेट या तंबाखू खाना ही नहीं होता। अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में हमें भी कई चीज़ों/आदतों का नशा हो जाता है और हमें इस बात का एहसास तब तक नहीं होता जबतक इससे कुछ बड़ा नुकसान न हो जाए। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि आमतौर पर लोगों को किन-किन चीज़ों/बातों का नशा या लत होती है।

1. लेटलतीफी

Addictive

फलां काम आज नहीं कल करूंगा। आपको अपने आसपास ऐसे बहुत से लोग मिल जाएंगे जो आज का काम कल के भरोसे छोड़ देते हैं। ऐसा नहीं है कि वो आज बिज़ी हैं या कोई दूसरा काम है। उनके पास, बस यूं ही कल तक काम को टालते रहते हैं। उन्हें जब तक इस बात का एहसास होता है कि वो बहुत आलसी हैं और आलसपन के कारण ही वो ऐसा करते हैं, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है। यदि आप भी ऐसी ही करते हैं तो सतर्क हो जाइए और इससे पहले की आपका नुकसान हो अपनी इस लत से पीछा छुड़ाइए।

2. फिज़ूलखर्च

Addictive


Advertisement

यदि आप बहुत ज़्यादा कमाते हैं और खूब खर्च भी करते हैं तो कोई परेशानी नहीं है, लेकिन आपकी आमदनी कम है बावजूद इसके यदि आपको फिज़ूलखर्च करने की आदत है तो आप बड़ी मुश्किल में फंस सकते हैं। कोई चीज़ सेल में थी या सिर्फ 100 रुपए की ही तो थी, इसलिए खरीद लिया, वाला एक्सक्यूज़ देकर आप अपना ही नुकसान कर रहे हैं। यदि आप इसी तरह खर्च करते रहे तो जल्द ही कंगाल हो जाएंगे या फिर कर्ज के बोझ तले दब जाएंगे।

3. बैकग्राउंड म्यूज़िक

Addictive

होमवर्क करते समय, खाना खाते समय यदि किसी को म्यूज़िक सुनने की आदत है इसलिए मोबाइल या लैपटॉप पर कोई भी म्यूज़िक लगा देता है। बिना बैकग्राउंड म्यूज़िक के वो किसी काम पर ध्यान नहीं दे पाता और बड़े होने पर ही उसकी यही आदत बनी रहती हैं। लैपटॉप पर कुछ काम करते समय वो टीवी बस इसिलए ऑन कर देता है कि उसके कानों को कुछ सुनने की आदत है, भले ही वो टीवी देख नहीं रहा होता। इस तरह की आदत अच्छी नहीं है। इससे प्रोफेशनल लाइफ में भी दिक्कते आ सकती हैं।

4. शक्कर

Addictive

कई अध्ययन से यह साबित हो चुका है कि शक्कर का ज़्यादा इस्तेमाल दिमाग को उतना ही नुकसान पहुंचाता है जितना की कोकिन और हेरोइन जैसी ड्रग्स। इसके बावजूद कुछ लोगों अपने मीठे की आदत पर लगाम नहीं लगा पाते और नज़रें बचाकर खूब मीठा खाते हैं, इससे आगे चलकर गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।



5. हर जगह गाड़ी से जाना

Addictive

कुछ लोगों को गाड़ी का इतना नशा हो जाता है कि पैदल चलने के बारे में सोचकर ही घबरा जाते हैं। पड़ोस में जाना हो तो भी गाड़ी निकाल लेते हैं। यदि कहीं गाड़ी से नहीं जा पाते तो टैक्सी या ऑटो ले लेते हैं। ऐसे लोग चार कदम भी पैदल नहीं चलते, जो सेहत के लिए अच्छा नहीं है। हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए चलना बहुत ज़रूरी है, मगर गाड़ी का नशा इस कदर चढ़ा रहता है कुछ लोगों पर कि यह ज़रूरी चीज़ भूल जाते हैं।

6. पॉर्न देखना

Addictive

आजकल इंटरनेट पर आसानी से पॉर्न सामग्री उपलब्ध है। ऐसे में बहुत से युवा पॉर्न देखने के आदी हो गए हैँ। शुरू-शुरू में बस जिज्ञासा शांत करने के लिए वो पॉर्न साइट्स देखते हैं, लेकिन उन्हें पता ही नहीं चलता कि कब उन्हें इसकी आदत पड़ गई। जल्द ही वो पॉर्ड एडिक्टेड हो जाते हैं। यह नुकसानदेह होता है।

7. स्मार्टफोन व इंटरनेट की लत

Addictive

स्मार्टफोन के आने के बाद से हमारी ज़िंदगी पूरी तरह से बदल गई है। अब तो ये हालत है कि लोग एक घंटे भी अपने फोन से दूर नहीं रह पाते। कुछ लोग कहते हैं कि ये उनकी ज़रूरत है इसके बिना उनका काम नहीं होता, मगर कुछ लोगों को बस इसका नशा होता है। सोशल मीडिया चेक करना, फोटो को कितने लाइक्स मिले, किसे क्या अपलोड किया आदि चेक करने के लिए दिनभर फोन में घुसे रहते हैं।

8. प्यार

Addictive

दुनिया में शायद ही कोई ऐसा इंसान होगा जिसे प्यार की ज़रूरत नहीं होती। प्यार हर धर्म, साहित्य, कला का केंद्र बिंदु होता है। प्यार की बदौलत ही तो दुनिया इतनी हसीन नज़र आती है और लोग एक-दूसरे से जुड़े होते हैं, लेकिन जब कोई प्यार में धोखा खाता है या किसी का दिल टूट जाने पर वो दुःखी होकर मरने की सोचने लगता है। उसे लगता है कि ज़िंदगी बेकार हो गई है और अब वो जीकर क्या करेगा, तो यह प्यार का नशा है, जिसकी वजह से हर साल न जाने कितने लोग सुसाइड कर लेते हैं। ये नशा अच्छा नहीं है, प्यार का मतलब अपने आप से प्यार करना भी होता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement