आधार कार्ड नहीं तो AIIMS में इलाज कराना होगा 10 गुना महंगा

author image
Updated on 17 Dec, 2016 at 3:57 pm

Advertisement

अगर आपके पास आधार कार्ड नहीं है तो आपको दिल्ली के AIIMS में इलाज कराने के लिए 10 गुना महंगी कीमत चुकानी पड़ेगी।

AIIMS में आधार नंबर उपलब्ध नहीं कराने वाले मरीजों को ओपीडी कार्ड के लिए 10 रुपये की जगह जनवरी से 100 रुपये का भुगतान करना पड़ेगा। लेकिन जिन लोगों ने अपने आधार कार्ड के जरिए रजिस्ट्रेशन कराया है उन्हें एम्स में लगने वाली 10 रुपये की यह रजिस्ट्रेशन फीस नहीं देनी होगी।

आधार कार्ड होने पर मरीजों का ओपीडी कार्ड एम्स में नि:शुल्क बन सकेगा।

एम्स के कंप्यूटरीकरण विभाग के चेयरमैन डाक्टर दीपक अग्रवाल ने कहा है कि यह व्यवस्था जनवरी से लागू होने की संभावना है, जिसका उद्देश्य मरीजों का डाटाबेस दुरुस्‍त करना है।


Advertisement

डॉक्टर अग्रवाल कहते हैं-



“अक्सर मरीज एक ही अस्पताल में भी कई अलग-अलग रजिस्ट्रेशन करा लेते हैं, इससे मरीजों की केस हिस्ट्री समझने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। कई मरीज एम्स आने से पहले भी दूसरे अस्पतालों में इलाज के लिए अलग-अलग ट्रीटमेंट ले चुके हैं, जिसे इमरजेंसी स्थिति में समझ पाना नामुमकिन होता है। ऐसे में अगर मरीज का यूआईडी नंबर यानी की आधार कार्ड के जरिए रजिस्ट्रेशन होगा, तो मरीज की पूरी हिस्ट्री/हेल्थ रिकॉर्ड ई-हॉस्पिटल के पोर्टल पर उपलब्ध होगा, जिससे डॉक्टरों को इलाज करने में आसानी होगी।”

वहीं गरीबी रेखा से नीचे (BPL) श्रेणी में आने वाले मरीज, BPL कैटेगरी को मिलने वाली छूट का लाभ ले सकेंगे। इसके लिए मरीजों को अस्पताल के जरूरी मानदंडों को पूरा करना होगा।

AIIMS के इस कदम को सरकार के आधार कार्ड के इस्‍तेमाल को बढ़ावा देने के रूप में भी देखा जा रहा है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement