96 साल की केरल की दादी अम्मा बन गईं हैं सबसे उम्रदराज छात्रा, पहली परीक्षा में ही किया टॉप

12:59 pm 9 Aug, 2018

Advertisement

जीवन को जीने और कुछ करने की ललक सदा रहनी चाहिए। बच्चों को जब स्कूल में दाखिल किया जाता है, तो बहुतायत रोते-बिलखते हैं। पढ़ाई कोई खेल नहीं, पूरी साधना होती है, लिहाजा इसमें कड़ी मेहनत और लगन की जरूरत पड़ती है। यही कारण है कि कम उम्र में ही ये काम कर लिया जाता है, लेकिन केरल की इस दादी अम्मा ने 96 साल की उम्र में पढ़ाई शुरू कर सबको चौंका दिया है।

 

दादी अम्मा यानी कर्त्यायिनी अम्मा केरल की सबसे उम्रदराज छात्रा हैं!

 

thenewsminute.com


Advertisement

 

बीते रविवार को दादी अम्मा ने अपने जीवन का पहला शैक्षणिक इम्तिहान दिया और अव्वल नम्बरों से पास भी कर गई। परीक्षा समन्वयक ने बताया कि अम्मा पूरे आत्मविश्वास के साथ परीक्षा देती दिखीं। इन्होंने अन्य 45 बुजुर्गों के साथ कनीचेनेल्लुर सरकारी लोअर प्राइमरी स्कूल में परीक्षा दी। यह परीक्षा केरला लिटरेसी मिशन ‘अक्षरालक्षम’ के तहत ली जा रही थी। इस अभियान में सीनियर सिटीजन, आदिवासियों, मछुआरों व ऐसे लोग जो अभी तक निरक्षर हैं, उन पर ध्यान दिया जाता है।

 

 



परीक्षा तीन चरणों में लिया गया, जिनमें 30 अंक पढ़ने के लिए, 40 अंक मलयालम लिखने के लिए और 30 अंक गणित के शामिल थे। अम्मा ने पढ़ने के लिए पूरे तीस अंक प्राप्त किए। परीक्षा समन्वयक के अनुसार, अन्य विषयों के परिणाम आने बाकी हैं, जिसको लेकर अम्मा निश्चिंत दिखीं। अम्मा ने पूरी पढ़ाई कर रखी थी और प्रश्नपत्र देखकर खुश थीं।

 

 

खबर के अनुसार, केरल में चलाए गए इस साक्षरता अभियान के अंतर्गत कुल 45,000 हज़ार वरिष्ठ नागरिकों ने परीक्षा दी है। इस परीक्षा को पास कर अम्मा चौथी कक्षा में नामांकन ले सकेंगी। बताते चलें कि अम्मा पिछले 6 महीने से मलयालम और गणित की ट्यूशन ले रही थी। रीडिंग टेस्ट पास करने के बाद अम्मा को मलयालम चैनल के द्वारा उन्हें एक पुस्तक भेंट स्वरूप दी गई।

 

 


Advertisement

उम्र की चुनौती को पार करते हुए दादी अम्मा ने जिस उत्साह का परिचय दिया है, वह वाकई प्रेरक है।

आपके विचार


  • Advertisement