89 साल की दादी ने ऑनलाइन शॉप खोलकर साबित किया है कि कुछ करने की चाहत में उम्र आड़े नहीं आती

Updated on 7 Aug, 2018 at 1:16 pm

Advertisement

अगर ठान लें तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है और उम्र तो बस एक आंकड़ा भर है। ये महज कहने की बात लग सकती है, लेकिन ऐसा होता भी है। तमाम सीमाओं को पार कर इरादों के पक्के लोगों ने खुद को साबित किया है। इसी कड़ी में एक 89 वर्षीय दादी का नाम भी जुड़ गया है, जिन्होंने अपनी उम्र की परवाह किए बगैर ऑनलाइन शॉप खोली है।

 

दादी लतिका चक्रवर्ती ने ऑनलाइन शॉप बिजनेस में कदम रखकर सबको चौंका दिया है!

 

latikasbags.com


Advertisement

 

इस बढ़ती उम्र में लतिका साड़ियों से खुद बैग्स बनाती हैं और दुनिया तक पहुंचाती हैं। बैग के साथ-साथ वे पोटली भी बनाती हैं, जिनमें पुरानी साड़ियों व कुर्तों का इस्तेमाल होता है। इस ऑनलाइन शॉप पर बिकने वाली सभी सामग्री लतिका द्वारा ही बनी होती है।

 

खास बात ये है कि इसे बनाने में वे देश के विभिन्न क्षेत्रों में प्रसिद्ध कलाओं को भी उकेरती हैं।

 

 

दरअसल, लतिका के पति कृष्णा लाल चक्रवर्ती सर्वे आफ़ इंडिया में सर्वेक्षक रहे और इसलिए वे उनके साथ देश के कई हिस्सों में रह चुकी हैं। इतना ही नहीं, उनके बेटे कैप्टन राज चक्रवर्ती भी नौसेना में रहने के कारण एक जगह से दूसरी जगह घूमते रहे और लतिका को भी घूमने के भरपूर अवसर मिले। लिहाजा इनकी कलाओं में विभिन्न शहरों की छाप दिख जाती है।

 

 

इस प्रकार ये कह सकते हैं कि इनके ऑनलाइन शॉप पर बैग्स के जो डिजाइन हैं वे बेहद यूनिक हैं। आज ये जिजीविषा और ऊर्जा की मिसाल बन चुकी हैं और कई ऐसी महिलाओं के लिए प्रेरणा से कम नहीं हैं। आप इनके बैग्स और पोटली को खरीदकर इन तक अपना मैसेज या समर्थन पहुंचा सकते हैं।

 

 

ऐसी कहानियां हमें भी सीख दे जाती हैं कि जीवन के किसी भी मोड़ पर किसी भी हालात में खुद को बांधने की बजाय कोशिश करते रहना चाहिए।

 

View this post on Instagram

New project #handmadebags #89yearoldbadass #latikasbags

A post shared by Latika Chakravorty (@latikasbags) on


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement