80 साल के डॉक्‍टर ने की 50 वर्षीया मह‍िला से शादी, वजह जानकर हिल जाएंगे आप

Updated on 30 Aug, 2017 at 9:45 am

Advertisement

कहा जाता रहा है कि शादी एक उम्र पर ही करनी चाहिए। इसमें न ज्यादा जल्दी करनी चाहिए और न ज्यादा देर ही करनी चाहिए। गृहस्थी बसाने की भी उम्र होती है, लेकिन इन सभी बातों को झुठला दिया है एक 80 साल के डॉक्टर ने। उन्होंने इस उम्र में आकर शादी कर ली है और बता दिया है कि प्रेम के साथ-साथ शादी की भी कोई उम्र नहीं होती।

जमशेदपुर के 80 साल के बुजुर्ग डॉक्टर रवीन्द्र कुमार शर्मा ने शादी कर सबको चौंका दिया है। वे एमजीएम मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य रह चुके हैं। उन्होंने 50 साल की डॉली हांडा से शादी कर ली है। उनको चारों तरफ से बधाइयाँ मिल रही है।

डॉ. रवीन्द्र कुमार शर्मा विधुर थे, जिनकी पत्नी का निधन महज डेढ़ साल पहले हो गया था। वो अकेलेपन के शिकार थे। उनके बच्चे उनसे दूर रहते थे, लिहाजा उन्होंने शादी करने की ठानी। रांची में संपन्न इस शादी में डॉक्‍टर शर्मा के म‍ित्र और र‍िश्‍तेदार मौजूद थे।


Advertisement

डॉ. शर्मा की पत्नी बन चुकी डॉली विधवा थी। 19 साल पहले उनके पति की मौत हो चुकी थी। वे अपने बेटे की परवरिश अकेले कर रही थीं। बेटा दिल्ली में एमबीए में पढ़ रहा है। डॉली उसी मैरिज ब्यूरो में काम कर रही थे, जहां डॉ. शर्मा ने शादी के लिए अप्लाई किया था। आवेदन पढ़ने के बाद डॉली ने खुद शादी के लिए प्रपोज कर दिया। दोनों कुछ महीनों से मिलते थे और शादी के लिए तैयार होने पर आखिरकार रजामंदी से शादी कर ली।

डॉ. शर्मा की एक बेटी दिल्ली में है तो दो बेटे देश के बाहर रहते हैं, जहां वे लोग अपनी-अपनी जिन्दगी में व्यस्त हैं। इस वजह से डॉ. साहेब ने शादी करने की सोची और मैरिज ब्यूरो में अप्लाई कर दिया। उम्र के इस पड़ाव में अकेलापन बहुत सताता है।

दंपत्ति के अनुसारः

“उम्र अधिक होने से और बच्चों के दूर रहने से लोग अक्सर अवसाद में चले जाते हैं। उन्हें लोगों की जरूरत होती है। ऐसे में वृद्धाश्रम चले जाना ही एकमात्र रास्ता बच जाता है, लेकिन अब इन्हें वृद्धाश्रम जाने की जरूरत नहीं है।”

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement