Advertisement

पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के 73 फीसदी लोगों को चाहिए आजादी

2:12 pm 14 Sep, 2017

Advertisement

पाकिस्तान अधीकृत कश्मीर में सरकार के खिलाफ गुस्सा भड़क रहा है। स्थानीय लोग अब पाकिस्तानी सरकार की दखलंदाजी को बर्दाश्त नहीं कर रहे हैं। और अब एक सर्वे में निकल कर आया है कि पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में 73 फीसदी लोगों को आजादी चाहिए। यह दावा यहां के एक लोकप्रिय अखबार के सर्वे में किया गया है। सर्वे में लोगों ने साफ़ किया है कि वे पाकिस्तानी नहीं, कश्मीरी हैं और वे आजाद होना चाहते हैं।

यह सर्वे उर्दू दैनिक मुजादला ने करवाया है।

सर्वे में दैनिक ने कश्मीर के लोगों से पूछा था कि कितने लोग पाकिस्तान में रहना चाहते हैं? जिसके जवाब में 73 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने पाकिस्तान से आजादी चाही थी। यह सर्वे लगभग 10 हजार लोगों के बीच कराया गया था, जिसमें 5 साल का समय लगा। इस सर्वे के बाद पकिस्तान सरकार में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में जबरन इस अखबार पर रोक लगा दी गई है। यह अखबार कश्मीर के शहर रावलकोट से प्रकाशित किया जाता रहा है।

मुजादला के मुख्य संपादक हारिस कदीर ने बताया कि लोगों से सवाल पूछे गए थे कि क्या वे वर्ष 1948 वाली स्थिति में जाना चाहेंगे, जब वह आजाद थे। इसके जवाब में 73 फीसदी लोगों ने कहा कि वह पाकिस्तान के गैरकानूनी शासन को समाप्त कर आजादी चाहते हैं। इस सर्वे ने पाकिस्तान को मुश्किल में डाल दिया। संपादक ने बताया है कि सर्वे परिणाम आने के बाद पाकिस्तान सरकार ने उनको नोटिस भेजा है और कार्रवाई करने की धमकी दी है।


Advertisement

गौरतलब है कि पिछले कुछ सालों में पाक अधीकृत कश्मीर में पाकिस्तान सरकार के खिलाफ लोग खड़े हो रहे हैं। यह इलाका विकास के मामले में सिफर तो है ही, यहां आतंकी कैम्पों को लेकर भी लोगों में रोष है।

इधर, भारत सरकार बार-बार दोहरा रही है कि पाकिस्तान अधीकृत कश्मीर दरअसल भारत का हिस्सा है, जिस पर पाकिस्तान ने गैरकानूनी रूप से कब्जा जमा रखा है। पिछले दिनों विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पीओके के एक बाशिंदे को मेडिकल वीजा जारी करते कहा था कि उन्हें पाक सरकार से कोई चिट्ठी लाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि पीओके के बाशिंदे भारत के ही लोग हैं।

ऐसे में पाकिस्तान का बौखलाना लाजमी है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement