Advertisement

7 मज़ेदार एेतिहासिक तथ्य जिन्हें जानकर आप हक्के-बक्के रह जाएंगे

10:29 am 1 Nov, 2017

Advertisement

इतिहास का नाम सुनते ही अक्सर लोग मुंह बनाने लगते हैं क्योंकि उन्हें लगता है कि इसमें युद्ध, हार-जीत जैसे बोरिंग टॉपिक के अलावा भला और क्या होगा, लेकिन ऐसा नहीं है। इतिहास में ढेर सारे दिलचस्प किस्से भी हैं। आज हम आपको इतिहास से जुड़ी ऐसी ही कुछ रोचक वो दिलचस्प बातें बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानकर भले ही आपको खुशी न हो, मगर आपको ये ज़रूर पता चलेगा कि हम कहां थे और आज कहां आ गए हैं।

1. एकमात्र सर्जरी जिसमें मृत्यु दर रही 300 फीसदी

एनिस्थिसिया दिए जाने से पहले सर्जरी की सफलता और मरीज को होने वाले दर्द को कम करने के लिए सर्जरी की स्पीड बहुत मायने रखती थी। इसी दिशा में स्कॉटलैंड के एक सर्जन रॉर्बट लिस्टन ने 1847 में सिर्फ़ 25 सेकंड में ही एक सर्जरी कर डाली। हालांकि, इसे आप सफल कतई नहीं कह सकते, क्योंकि प्रकाश की गति से सर्जरी करने के दौरान डॉक्टर ने अपने एक सहयोगी की उंगली काट दी। इंफेक्शन की वजह से मरीज और उसके सहयोगी दोनों की मौत हो गई। इसी दौरान वहां मौजूद एक दर्शक का कोट सर्जरी उपकरण लेते समय कट गया और उसे लगा कि उसे ही चाकू लग गया है। इस सदमें में उसकी भी जान चली गई। यह इतिहास की एकमात्र ऐसी सर्जरी ही जिसमें मृत्यु दर 300 फीसदी रही।

Hilarious facts

2. जब जूलियस सीज़र ने मज़ाक को सच कर दिखाया

रोमन सम्राट बनने से पहले जूलियस सीज़र एक वकील थे। उसी दौरान एक बिज़नेस ट्रिप पर जाते समय कुछ समुद्री डाकुओं ने उनका अपहरण कर लिया। जब सीज़र को डाकुओं की फिरौती की रकम का पता चला तो उन्होंने कहा कि ये बहुत कम है उसे दोगुना कर तो। करीब 38 दिनों तक डाकुओं की कैद में रहने के दौरान सीज़र ने कई कविताएं और भाषण लिखे और कहा कि समुद्री डाकुओं को इसे सुनना चाहिए। इन अजीब बातों के अलावा सीज़र ने मज़ाक में कहा कि यदि वो यहां से आज़ाद हो जाते हैं, तो लौटकर सभी डाकुओं को सूली पर लटका देंगे। एक दिन वास्तव में जब वो आज़ाद हो गए तो अपनी सेना के साथ आकर समुद्री डाकुओं को कैद कर लिया और उन्हें सूली पर टांग दिया।

Historical facts

3. ऐसी आर्मी जो युद्ध के बाद ज़्यादा सैनिकों के साथ लौटी

लिकटेंस्टीन विश्व का छठा सबसे छोटा स्वतंत्र देश है। साथ ही यह उन चंद देशों में से भी एक है, जिनके पास सेना नहीं है। लिकटेंस्टीन की निष्पक्षता का इतिहास काफी पुराना है और आखिरी बार यह देश वर्ष 1866 में युद्ध में शामिल हुआ था। इस दौरान ऑस्ट्रो-परशियन युद्ध चल रहा था। लिकटेंस्टीन के ऑस्ट्रिया से अच्छे संबंध थे, इसलिए ऑस्ट्रिया के समर्थन के लिए इसने 80 लोगों की एक सेना भेजी। बाद में कुल 81 लोग देश लौटे, जिसमें भेजे गए 80 लोगों के अलावा एक इटालियन व्यक्ति भी था, जो इनका दोस्त बन चुका था और इसने लिकटेंस्टीन जाने का फैसला किया। इस तरह इस युद्ध में लिकटेंस्टीन का कोई भी सैनिक नहीं मारा गया और इसकी सेना में एक आदमी का इज़ाफा हो गया।

Historical facts

4. टोपी की चोरी

वर्ष 1717 में कुख्यात समुद्री डाकू बेंजामिन हॉर्निगॉल्ड का खौफ था, जो किसी भी समय किसी भी जहाज पर हमला कर देता था। एक मामूली इंसान से 350 लोगों के गिरोह का सरगना बनने वाले बेंजामिन ने एक बार एक व्यापारी जहाज पर हमला कर दिया और चालक दल के सभी सदस्यो को कब्जे में ले लिया। अपनी जान बचाने के लिए चालक दल उसके सामने दया की भीख मांगने लगे। तब बेंजामिन ने कहा कि उसका मकसद किसी को मारना नहीं है, बल्कि उसने तो टोपी के लिए जहाज पर हमला किया है। दरअसल, पिछली रात नशे में धुत्त समुद्री डाकुओं के दल ने अपनी टोपी समुद्र में फेंक दी थी। समुद्री डाकू जहाज से टोपी लेकर चले गए और किसी को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया।

Historical facts

5. मज़ाकिया लहज़े के कारण बेंजामिन फ्रेंकलिन नहीं लिख पाए ‘स्वतंत्रता की घोषणा’


Advertisement

बेंजामिन फ्रेंकलिन एक महान शख्सियत थे। वह एक लेखक, राजनेता, अविष्कारक, वैज्ञानिक और भी बहुत कुछ थे। साथ ही वह अपने विनोदी स्वभाव के लिए मशहूर थे। यहां तक कि कई बार वह अपने गंभीर कागज़ातों में भी कुछ जोक्स लिख देते थे और लोगों को तब तक समझ नहीं आता था जब तक इससे किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचता था। यही वजह है कि ‘स्वतंत्रता की घोषणा’ घोषणा लिखने के लिए उनकी जगह थॉमस जेफरसन को चुना गया, जबकि बेंजामिन ज़्यादा बुद्धिमान थे। बेंजामिन कहीं इस घोषणा में भी जोक्स ने लिख दें, इस डर से उन्हें ये मौका नहीं दिया गया।

Historical facts

6. क्रिस्पिप्स, जो अपने ही मज़ाक पर हंसकर मर गया

दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में ग्रीक के दार्शनिक क्रिस्पिप्स एक महान लेखक थे। उन्होंने 700 से अधिक रचनाओं का संग्रह किया वह स्टोइक स्कूल ऑफ फिलॉसफी के प्रमुख थे। क्रिस्पिप्स की तर्क और नैतिकता में बहुत रुचि थी। वह बेहतरीन डायलेक्टिक और एक कुशल धावक भी थे, लेकिन अपनी प्रतिभा और कौशल की बजाय वो अपनी मौत के लिए याद किए जाते हैं।

क्रिस्पिप्स को हालांकि पार्टियों में रुचि नहीं थी, लेकिन वो बहुत ज़्यादा शराब पीकर खूब दिल खोलकर हसंते थे और यही हंसी उनकी मौत का कारण बन गई। एक बार जब वो शराब पीकर पार्टी से लौट रहे थे तो उन्होंने गधों को अंजीर खाते देखा। उन्होंने अपने साथ रहने वाली बुजुर्ग महिला से कहा कि इन गधों को थोड़ी वाइन दे दो। यह कहकर उन्हें ऐसा महसूस हुआ कि उन्होंने कोई बहुत ही मज़ेदार जोक कहा दिया हो और फिर वो ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगे। हालांकि, हंसते-हंसते ही उनका मौत हो गई।

Historical facts

7. ग्राउंड ब्रेकिंग डिस्कवरी

नवंबर 1963 में एक ज्वालामुखी विस्फोट के बाद दक्षिणी तट पर एक नया द्वीप बन गया। इसका नाम रखा गया सरट्से (Surtsey) और यह दुनिया के सबसे नए द्वीपों में से एक बन गया। यह द्वीप बनने के बाद से ही सील कर दिया गया। चंद वैज्ञानिकों के अलावा कोई और यहां नहीं जा सकता था। इसका कारण था इस द्वीप पर अपने आप जीवन के विकास का निरीक्षण करना।

वर्ष 1969 के गर्मियों के मौसम में वैज्ञानिकों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा, जब उन्होंने पहली बार देखा कि लावा से एक पौधा विकसित हो रहा है। मगर वैज्ञानिक इस रहस्मयी पौधे को नहीं पहचान पाए। इसके बाद दूसरे वैज्ञानिकों को इसकी पहचान के लिए भेजा गया। अगस्ट बजरनस वहां पहुंचे और आलू के पौधे की तरह दिखने वाले उस पौधे को देखकर हैरान रह गए। नीचे झुककर उन्होंने उन दो पत्थरों को हटाया जिनके बीच से पौधा निकला था। वहां गिली मिट्टी जैसा कुछ दिखा। जब उन्होंने उसे दबाया तो सब कुछ साफ हो गया। दरअसल, वह मानव मल था, जिसमें से टमाटर का पौधा उग आया था। किसी ने मल करके उसे पत्थरों से छुपा दिया था और उसी में पौधा उग आया। हकीकत जानकर सब हैरान रह गए, क्योंकि इसमें जश्न मनाने जैसा कुछ नहीं था।

Historical facts

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement