बड़ी बहन ने लिया था 15 साल की उम्र में Phd में दाखिला, छोटी उससे भी एक कदम आगे

author image
Updated on 27 Aug, 2016 at 10:07 am

Advertisement

लखनऊ की एक चार वर्षीय लड़की को आधिकारिक तौर पर कक्षा 9 में प्रवेश दे दिया गया है। यह कारनामा उत्तर प्रदेश शिक्षा विभाग की तरफ से सहमति मिल जाने के बाद हो सका है

DNA की खबर के मुताबिक अनन्या का जन्म 1 दिसंबर, 2011 को हुआ था। अगर अनन्या कक्षा 10 की परीक्षा पास कर लेती हैं तो अपनी बहन सुषमा का रेकॉर्ड तोड़ देंगी। सुषमा ने 2007 में कक्षा 10 की परीक्षा पास कर ली थी, जब वह मात्र 7 साल की थी।

अनन्या सेंट मीरा इंटर कॉलेज छात्रा है। इसी स्कूल में उसकी बहन सुषमा भी पढ़ती है। जिला निरीक्षक उमेश त्रिपाठी अनन्या के प्रतिभा के बारे में बात करते हुए कहते हैंः


Advertisement

“अनन्या इतना प्रतिभाशाली है कि हम में से कोई भी उसका दाखिला कक्षा 9 में लेने से रोक नहीं सके। बोर्ड केवल कक्षा 8 तक के बच्चों को यह अनुमति देती है कि वे घर पर रह कर अध्यन कर सकें। वह धाराप्रवाह हिन्दी बोल सकती है और कक्षा 9 की किताबें पढ़ सकती है, इसलिए दाखिले की वह हकदार है।”

कैसे हुई यह शुरुआत?

अनन्या के पिता तेज बहादुर वर्मा बताते हैं कि एक दिन वह बाजार में सेंट मीरा कॉलेज के शिक्षक से मिले। शिक्षक के हाथों में एक किताब थी।  अचानक ही उनके साथ चलने वाली अनन्या ने उनके हाथ से किताब ले ली और पढ़ना शुरू कर दिया। शिक्षक उसकी इस क्षमता से स्तब्ध थे। उन्होंने आगे उसकी क्षमता का टेस्ट लिया और पाया कि वह 9वीं क्लास में दाखिला देने लायक है।

आपको बता दें अनन्या एक बेहद ग़रीब परिवार से है। उसकी मां छाया देवी पढ़-लिख नहीं सकती। वहीं, उसके पिता तेज बहादुर उसी बाबासाहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय में चपरासी हैं, जहां अनन्या की बड़ी बहन सुषमा  मात्र 15 साल की उम्र में पीएचडी में दाखिला ले कर अपनी प्रतिभा का लोहा पहले ही मनवा चुकी है।

Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement