क्या 2000 के नोट बंद किए जाने वाले हैं? प्रमोट किए जा रहे छोटे नोट

Updated on 24 Jul, 2017 at 11:39 am

Advertisement

2000 रुपए का नोट कई बार बीच बाजार मुसीबत लेकर आता है कि जब आप चाहकर भी कुछ खरीद नहीं सकने की स्थिति में होते हैं। इसकी वजह ये होती है कि रीटेलर छुट्टा देने की हालत में नहीं होता। मतलब ये है कि छोटी जरूरत हो और जेब में 2000 के नोट हो तो आप मजबूर और निःसहाय महसूस कर सकते हैं। लिहाजा आरबीआई अब मार्केट में छोटे नोटों की सप्लाइ बढ़ाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रिजर्व बैंक मार्केट में अब 50, 100 और 500 रुपये के नोटों की सप्लाइ बढ़ाएगा। अगस्त महीने के अंत तक 200 रुपए के नए नोट भी मार्केट में आ सकते हैं। वित्त मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार 11 अप्रैल को नोटों की छपाई के लिए प्रॉडक्शन प्लानिंग की बैठक हुई थी।

सूत्रों का कहना है कि छोटे नोटों की संख्या बढ़ाकर 2000 रुपए के नोट को बंद करने की दिशा में काम हो सकता है। बताया गया है कि एसबीआई अपने एटीएम रीकैलिब्रेट कर रहा है, ताकि 500 रुपये के नोटों को ज्यादा जगह मिले। पिछले दिनों बैठक में रिजर्व बैंक ने 2000 के सौ करोड़ नोट छापने का प्रस्ताव रखा था, लेकिन वित्त मंत्रालय ने इसे नकार दिया था। साथ ही बाकी छोटे नोट छापने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है।



रेवेन्यू सेक्रेटरी हसमुख अढिया का कहना है कि हम चाहते हैं कि भारत जल्द से जल्द कैशलेस इकॉनमी बने। सरकार जो भी कदम उठा रही है, उसके पीछे इकॉनमी ग्रोथ में तेजी, ब्लैक मनी पर अंकुश और वित्तीय घाटे को एक निश्चित दायरे में रखना लक्ष्य है। ऐसा तभी हो पाएगा, जब लोग कैश की जगह ऑनलाइन पेमेंट करेंगे। इससे टैक्स चोरी कम होगी।

livemint


Advertisement

सरकार छोटे नोटों की सप्लाइ बढ़ाने पर जोर दे रही है, जिससे जाली मुद्रा पर शिकंजा कसेगा साथ ही लोग बड़े पेमेंट कार्ड या ऑनलाइन देना पसंद करेंगे। इससे कैशलेस इकॉनमी को बढ़ावा मिलेगा। आरबीआई ने 2 हजार रुपये के नोटों की कम आपूर्ति की है जिससे एटीम में भी एस नोट की कमी देखी जा सकती है।

आपके विचार


  • Advertisement