नींद से जुड़े ये 11 तथ्य जो आपके होश उड़ा देंगे!

Updated on 4 Aug, 2017 at 11:28 am

Advertisement

नींद लेना शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक होता है। इससे शरीर को विश्राम मिलता है, जिससे हम फिर से तरोताजा हो जाते हैं। नींद के समय सपने आते हैं, जो शरीर के भीतर हो रहे हरकतों को प्रकट करते हैं। इसे हम समझ नहीं पाते हैं और कभी डर जाते हैं या फिर सुनहरे सपनों से खुश हो जाते हैं। मगर सपने शारीरिक हरकतों का संदेश होते हैं।  आइए आपको इन हरकतों का मतलब बताते हैं।

1. सपने में सपना देखना

कभी-कभी लोग सोते हुए बार-बार जागते हैं, ये असल में जागते नहीं हैं, बल्कि सपने में देख रहे होते हैं कि ये जाग गए। ऐसा मानना है कि ये आध्यात्म की तरफ़ ध्यान न देने का संकेत होता है।

2. नींद में चलना

Reveal Things


Advertisement

ये लक्षण बताता है कि आपका दिमाग सो गया है, पर मांस-पेशियां नहीं। ऐसे में लोग चलने लगते हैं और कई बार घर से बाहर भी चले जाते हैं। ये बहुत ही खतरनाक होता है। ऐसे लोगों को सुबह में कुछ याद नहीं होता। ये दुनिया की 4 से 10 प्रतिशत आबादी को होता है, जिसमें बच्चे ज़्यादा होते हैं।

3. नींद में बातें करना

नींद में बात करने को Somniloquy कहते हैं। इसमें बात करने वाले व्यक्ति को नहीं पता होता कि वो बोल रहा है। अक्सर लोग तनाव में ऐसा करते हैं, जब दिमाग लाइफ़ में चल रही चीज़ों से सहमत नहीं होता।

4. तेज धमाके या ऐसी हरकतों की अनुभूति

इसमें लोगों को लगता है कि कोई तेज़ धमाका हुआ है या किसी ने ताली बजाई है, जिसके बाद वो अचानक जाग जाते हैं। ये आवाज़ उन्हें इतनी तेज़ लगती है, कि जैसे उनका कान फट गया हो। ऐसा तब होता है जब दिमाग का वो हिस्सा, जो आवाज़ पर प्रतिक्रिया देता है, उसमें कोई गतिविधि हो।

5. सोते हुए सांस न ले पाना

आपने ये महसूस किया होगा कि सोते-सोते आपको घुटन होने लगी और आप झटके से उठ गए। जब दिमाग को आॅक्सिजन की कमी महसूस होती है, तब एेसा होता है। इससे आर्टिरियल प्रेशर कम-ज़्यादा होता है, जिससे दिल का रोग हो सकता है। सिगरेट पीनेवाले लोगों को ये ज्यादा महसूस होता है।

6. बार-बार एक ही सपना देखना

कई लोगों को बार-बार एक ही सपना आता है। वैज्ञानिकों की मानें तो ये लोगों को उस ओर इशारा करता है, जिस पर वो ध्यान नहीं दे रहे। जब लोग उस चीज़ पर ध्यान देने लगते हैं, तब वो परेशानी ख़त्म हो जाती है।

7. नींद में बिस्तर से गिरना

कई बार आपको महसूस हुआ होगा कि आप बिस्तर से नीचे किसी खाई में गिर रहे हैं। ऐसे में हम झटके से उठ जाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि सोने की प्रक्रिया मरने जैसी होती है। जब आप सोते हैं तब दिल की धड़कनें और सांस धीरे हो जाती हैं, मांस-पेशियां ढीली पड़ जाती हैं। ऐसे में दिमाग डर जाता कि कहीं आप मर तो नहीं गए। इसे चेक करने के लिए दिमाग मांस-पेशियों को सिग्नल भेजता है।

8. सोते हुए खुद को देखना

ये एक Neuropsychological Phenomenon होता है, जिसमें व्यक्ति आधा सोता है और आधा जागता है। वो खुद को सोता हुआ देखता है। इससे व्यक्ति को एहसास होता है कि वो उसके अंदर की आत्मा थी।

9. डरावने चेहरे देखना

कई लोग जब नींद में होते हैं और सोने से ठीक पहले उनकी आंखें कुछ बंद और कुछ खुली होती हैं, उन्हें कुछ डरावने चेहरे दिखते हैं। ये अधिकतर बच्चों के साथ होता है, जिन्हें सोने की इच्छा नहीं होती। ये ज़्यादा तनाव की वजह से हो सकता है, या ज़्यादा सोचने की वजह से भी।

10. नींद में ज्ञान की प्राप्ति!

कई बार जब हम किसी परेशानी से जूझ रहे होते हैं और बार-बार उसी के बारे में सोच रहे होते हैं, तो दिमाग हमें उसका समाधान देता है। आपको बस वो याद रखना है। सोते वक़्त आपका अवचेतन मन ज़्यादा एक्टिव होता है और आपको एक सूत्र दे देता है।

11. स्लीप पैरालिसिस

रात को सोते वक़्त आपको ऐसा लगाना कि आपको कोई मार रहा है या आप खाई में गिर रहे हैं पर कुछ करने में असहाय हैं। इसका कारण है कि जब हम सोते हैं, तो हमारी मांस पेशियां भी सो जाती हैं, पर दिमाग जागता रहता है।


Advertisement

आपके विचार


  • Advertisement